दिल्ली महानगरों की तेज रफ्तार सड़कों पर नेक सलाह देना भी आपकी जान पर भारी पड़ सकता है. दिल्ली के एक ई-रिक्शा ड्राइवर ने इसी काम की कीमत जान देकर चुकाई. शनिवार की शाम कुछ बदमाशों ने उसे पीट-पीटकर मार डाला. ड्राइवर का कसूर सिर्फ ये था कि उसने बदमाशों को खुले में पेशाब करने से रोका था. वहीं, सोमवार को पीड़ित परिवार से केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने मुलाकात की और खुद 50 हजार रुपये का चेक दिया. यही नहीं, नायडू की सिफारिश के बाद नॉर्थ एमसीडी में मृत ई-रिक्शा चालक की पत्नी को नौकरी मिल गई है. इसकी

केंद्र सरकार लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में स्वच्छ भारत को बढ़ावा देने के लिए जागरुकता फैला रही है. लेकिन रविवार रात दिल्ली में जीटीबी नगर इलाके में मेट्रो स्टेशन के बाहर पेशाब करने से रोकने पर एक ई-रिक्शा चालक की कुछ लोगों ने मिल कर हत्या कर दी. केंद्रीय मंत्री वैंकेया नायडू ने इस घटना की कड़ी निंदा की है. नायडू ने ट्वीट किया कि स्वच्छ भारत को प्रमोट करने वाले ई-रिक्शा करने वाले की हत्या होने से काफी दुख पहुंचा है, मैंने दिल्ली के पुलिस कमिश्नर से बात की है और सख्त कार्रवाई करने को कहा है.   https://twitter.com/MVenkaiahNaidu/status/869022030057930752   https://twitter.com/MVenkaiahNaidu/status/869022218566676480