अमृतसर शिक्षकों एवं चिकित्सकों की कमी से जूझ रहे अमृतसर व पटियाला सरकारी मेडिकल कॉलेजों में 400 सीनियर रेजीडेंट डॉक्टरों की तैनाती की जाएगी. पंजाब सरकार द्वारा इन डॉक्टरों की नियुक्ति की प्रक्रिया सोमवार को संपन्न कर ली जाएगी. यदि ये 400 डॉक्टर इन दोनों मेडिकल कॉलेजों में ज्वाइन करते हैं तो निसंदेह इन कॉलेजों की कई समस्याएं खत्म हो जाएंगी. दरअसल, मेडिकल शिक्षा एवं खोज विभाग अरसे से सीनियर रेजीडेंट डॉक्टरों की तैनाती के लिए प्रयास कर रहा है. पिछले वर्ष भी डॉक्टरों की भर्ती प्रक्रिया संपन्न हुई थी, लेकिन स्टेशन अलॉटमेंट के बावजूद डॉक्टरों ज्वाइन नहीं किया। इसका सही कारण

जिस तरह से हरियाणा का स्वास्थ्य विभाग डॉक्टरों की कमी से जूझ रहा है, वैसा ही हाल कर्नाटक का है। हाल ही में कर्नाटक सरकार की तरफ से डॉक्टरों की कमी दूर करने के लिए पहल करते हुए डॉक्टरों से पूछा गया है कि उन्हें कितनी तनख्वाह चाहिए। कर्नाटक सरकार की तरफ से कहा गया है कि एमबीबीएस डॉक्टर को एक लाख 10 हजार और विशेषज्ञ को एक लाख 30 हजार रुपये तनख्वाह देंगे। साथ ही अगर किसी डॉक्टर को ज्यादा तनख्वाह चाहिए, तो आवेदन के साथ अपनी मांग से अवगत करा दें, ताकि सरकार उसपर विचार कर सके। यह अलग

मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया की जगह नेशनल मेडिकल कमिशन बनाने और उसमें डॉक्टरों के बजाय अन्य क्षेत्र के लोगों को प्रमुखता देने के निर्णय से डॉक्टरों में रोष है। डॉक्टर राष्ट्रीय स्तर पर नेक्स्ट की परीक्षा कराने और पास होने पर ही डॉक्टरों को लाइसेंस देने संबंधी प्रस्ताव के भी विरोध में हैं। ऐसी सात लंबित मांगों के समर्थन में निजी डॉक्टर आज देशव्यापी हड़ताल पर है। हड़ताल पर गए डॉक्टर्स ने दिल्ली में राजघाट से इंदिरा गांधी स्टेडियम तक सत्याग्रह मार्च निकालने का ऐलान किया है। हड़ताल के चलते मेडिकल कॉलेज और ओपीडी सेवा बंद हैं। हालांकि इमरजेंसी सेवा बहाल है,

हिमाचल सरकार ने प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में कार्यरत सात डॉक्टरों को निजी प्रैक्टिस करने पर निलम्बित कर दिया है. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने बताया कि ये डॉक्टर अस्पतालों में अपनी ड्यूटी से जानबूझ कर अनुपस्थित थे और निजी प्रैक्टिस में शामिल थे. स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि ये डॉक्टर ठीक से अपने कर्तव्यों का पालन व मरीजों की ठीक प्रकार से उपचार नहीं कर रहे थे. इसके अलावा, वे निजी प्रैक्टिस में शामिल थे. उन्होंने कहा कि इन डॉक्टरों के खिलाफ एक जांच कमेटी बिठाई गई थी, जिसने राज्य सरकार को इन डॉक्टरों की अनुपस्थिति

हरियाणा में सरकारी अस्पतालों में लंबे समय से बिना इजाजत छुट्टी पर चल रहे डॉक्टरों को स्वास्थ्य मंत्री ने चेतावनी दी है। विज ने सख्त लहजे में कहा है कि डॉक्टर या तो रिज्वाइन करें या फिर रिजाइन करें, जिससे उनकी जगह किन्ही और डॉक्टरों की भर्तियां की जाएं। अनिल विज ने बताया कि इस मसले पर कानूनी राय ली जा रही है। ताकि उनकी जगह नई भर्तियां की जा सकें।

हरियाणा के कैबिनेट मंत्री अनिल विज ने गोहाना में भगत फूल सिंह महिला मेडिकल कॉलेज में छात्रावास और चार नए वार्डों का उद्घाटन किया। इस दौरान राई स्कूल में घोटाले मामले में कार्रवाई ना होने पर विज ने कहा कि प्रक्रिया चल रही है, कार्रवाई जरूर होगी। साथ ही उन्होंने कहा कि, वैसे भी हरियाणा में कोई पैदा नहीं हुआ है, जो मेरे आदेशों की अवहेलना कर सके। वहीं, विज ने कहा कि प्रदेश में डॉक्टरों की भारी कमी है, इसे दूर करने के लिए हर जिले में मेडिकल कॉलेज और एक हजार आबादी पर एक डॉक्टर होना चाहिए। इसके लिए कॉलेजों

महाराष्ट्र में पुणे जिले के इंदापुर में उजनी डैम में बोट पलटने से 3 डाॅक्टरों की मौत हुई है। उनकी बॉडी बरामद हो गई है, जबकि उनके एक साथी की तलाश जारी है। हादसे में 6 डाॅक्टर तैरकर जान बचाने में कामयाब हो गए। बताया जाता है कि, सेल्फी लेते वक्त यह हादसा हुआ। एकसाथ खड़े हुए तो बिगड़ा बैलेंस - सोलापुर के मालशिरस में रहने वाले 10 डाॅक्टर पुणे के इंदापुर तालुका के आजोती गांव में रविवार को पिकनिक मनाने गए थे। - ये डॉक्टर इंदापुर में उनके एक डाॅक्टर फ्रेंड के फार्म हाउस पहुंचे थे। यहां से ये सभी एक छोटी