दिल्ली वाटर टैंकर घोटाले की जांच अब दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दफ्तर तक जा चुकी है. बुधवार को एंटी करप्शन ब्रांच ने अरविंद केजरीवाल के निजी सचिव बिभव कुमार से करीब साढ़े 3 घंटे तक पूछताछ की. बता दें कि बिभव कुमार पर दिल्ली सरकार के ही पूर्व जलमंत्री कपिल मिश्रा ने वाटर टैंकर घोटाले की फ़ाइल 11 महीने तक दबाने का आरोप लगाया था. दरसअल, अरविंद केजरीवाल की सरकार ने ही जुलाई 2015 में 5 लोगों की एक कमेटी बनाकर इस मामले की जांच बिठाई. कमेटी ने उसी साल अगस्त में केजरीवाल को जांच रिपोर्ट सौंप दी, जिसमें कहा गया