पेइचिंग चीनी मीडिया ने चीन द्वारा अरुणाचल प्रदेश के 6 स्थानों का नाम बदलने पर भारत की प्रतिक्रिया को 'बेतुका' करार दिया है. चीन के सरकारी मीडिया ने चेताया है कि अगर भारत ने दलाई लामा का 'तुच्छ खेल' खेलना जारी रखा तो उसे 'बहुत भारी' कीमत चुकानी होगी. सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स में प्रकाशित एक लेख में कहा गया है कि भारत सिर्फ इसलिए अरुणाचल प्रदेश को अपना नहीं मान सकता कि दलाई लामा ऐसा कहते हैं. भारत की ओर से कहा गया था कि चीन के लिए यह मुर्खतापूर्ण है कि वह विभिन्न काउंटियों के नाम तो नहीं रख पाया है,

बीजिंग चीन ने कहा है कि दलाई लामा की अरुणाचल प्रदेश की यात्रा से भारत-चीन संबंधों और दोनों देशों के बीच चल रहे सीमा विवाद पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है. चीन ने जोर देकर कहा है कि तिब्बत के धर्मगुरु का इस्तेमाल कर नई दिल्ली हमारे हितों की उपेक्षा ना करे. चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने दलाई लामा की अरुणाचल प्रदेश की यात्रा पर टिप्पणी की. पूर्वोत्तर में स्थित इस भारतीय राज्य पर बीजिंग अपने कब्जे वाले तिब्बत का दक्षिणी हिस्सा होने का दावा करता है. प्रवक्ता ने कहा, 'पूर्व में भी कुछ कारणों से जिसे हम सभी भारत-चीन

पेइचिंग अरुणाचल प्रदेश के लोग भारत के 'गैरकानूनी' शासन से दुखी हैं और अपनी 'मुश्किल जिंदगी' से परेशान लोग चीन से मिलना चाहते हैं. यह दावा है चीन के एक सरकारी अखबार 'चाइना डेली' का. बुधवार को अखबार ने अपने एक लेख में बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा को अरुणाचल जाने की अनुमति देने के लिए भारत की आलोचना की. चीन दलाई लामा को अरुणाचल में प्रवेश देने का विरोध कर रहा है. अरुणाचल, खासतौर पर तवांग में दलाई लामा को जाने देने की इजाजत देने पर चीन भड़का हुआ है. चीन ने भारत को चेतावनी दी थी कि वह दलाई लामा को