चीन ने बीजिंग से शंघाई के बीच दौड़ने वाली बुलेट ट्रेन की अधिकतम स्पीड आज (21 सितंबर को) बढ़ाते हुए 350 किलोमीटर यानी 217 मील प्रतिघंटे कर दिया है। छह साल पहले एक दुर्घटना की वजह से इसकी गति घटाकर 300 किलोमीटर प्रतिघंटे कर दिया गया था। जुलाई 2011 में वेनझाऊ के पास बुलेट ट्रेन की दुर्घटना में 40 लोग मारे गए थे। फिलहास 1318 किलोमीटर लंबे इस रूट पर बुलेट ट्रेन को सफर पूरा करने में 4 घंटे 28 मिनट का वक्त लग रहा था जो अब करीब एक घंटे कम हो जाएगा। चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के

चीन ने मंगलवार को कहा कि वह भारत के साथ ब्रह्मपुत्र नदी के हाइड्रोलॉजिकल डाटा को साझा नहीं कर सकता। यह वह समय है जब तिब्बत में डाटा कलेक्शन स्टेशन को अपग्रेड किया जा रहा है। हालांकि चीन ने यह भी कहा कि वह सिक्किम में नाथुला पास को दोबारा से शुरू करने के लिये भारत से बातचीत जारी रखेगा। यह बातचीत भारतीय तीर्थयात्रियों की कैलाश मानसरोवर की यात्रा को तिब्बत में जारी रखने को लेकर होगी जोकि डोकलाम गतिरोध के कारण जून में रोक दी गयी थी। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जेंग शुआंग ने कहा कि हम काफी समय से भारत के

पेइचिंग  डोकलाम में पीपल्स लिबरेशन आर्मी के अड़ियल रुख पर जापान के भारत को समर्थन देने पर चीन ने नाराजगी जाहिर की है। चीन ने कहा है कि भले ही जापान भारत को समर्थन देना चाहता है, लेकिन उसे भारत और चीन के बीच जारी तनाव पर टिप्पणी नहीं करनी चाहिए। बता दें कि जापान ने भारत का समर्थन करते हुए कहा था कि विवादित इलाके में पूर्व की स्थिति को बदलने की कोशिश नहीं की जानी चाहिए। जापान ने कहा कि इस मामले में बल का इस्तेमाल न करके बातचीत से मामला सुलझाया जाना चाहिए। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ने

उत्तर कोरिया मसले को लेकर चीन ने अमेरिका को कड़ी चेतावनी दी है. चीनी मीडिया ने कहा कि अमेरिका उत्तर कोरिया से जंग जीतने का सपना न देखे. उसके लिए उत्तर कोरिया से जीतना बेहद मुश्किल होगा. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने अपने संपादकीय में लिखा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया को तबाह करने की धमकी दी, जिसके बाद उत्तर कोरिया ने भी उसके गुआन स्थित सैन्य ठिकाने पर मिसाइल दागने की डेड लाइन घोषित कर दी है. माना जा रहा है कि उत्तर कोरिया अगस्त महीने के मध्य तक गुआन पर हमला कर देगा. दरअसल, हाल ही

रूस में आयोजित अंतरराष्ट्रीय सैन्य गेम्स 2017 के तहत चल रहे बड़े देशों की सेना के टैंकों के बीच मुकाबले में जहां भारतीय सेना दूसरे दौर में पहुंच गयी, वहीं चीनी सेना की टीम पहले ही राउंड में बाहर हो गयी. इस वर्ष इस प्रतियोगिता में कुल 19 देशों ने हिस्सा लिया है. जिसमें, रूस, भारत, चीन, कजाकिस्तान जैसे देश भाग ले रहे हैं. पहले राउंड में रूस जहां पहले नंबर पर रहा, वहीं भारतीय टीम पहले राउंड में चौथे नंबर पर रही. अंतरराष्ट्रीय सैन्य खेलों में 28 स्पर्धाएं होती हैं जिनका आयोजन रूस, बेलारूस, अजरबैजान, कजाखिस्तान और चीन में

भारतीय मुक्केबाजी स्टार विजेंदर सिंह ने चीनी प्रतिद्वंद्वी जुल्फिकार मेइमेइतियाली को करीबी मुकाबले में हराकर डब्ल्यूबीओ एशिया पेसीफिक सुपर मिडिलवेट खिताब जीतने के बाद भारत-चीन सीमा गतिरोध में शांति की अपील की. विजेंदर के प्रशंसकों के लिए यह दोहरी खुशी का पल था क्योंकि उन्होंने चीनी मुक्केबाज से डब्ल्यूबीओ ओरिएंटल सुपर मिडिलवेट खिताब भी जीता. ओलंपिक में कांस्य पद जीतने वाले विजेंदर ने मुकाबले के बाद कहा कि मैं यह बेल्ट जुल्फिकार को वापस देना चाहता हूं. मैं सीमा पर शांति की उम्मीद करता हूं और शांति का संदेश सबसे महत्वपूर्ण है. भारत एवं चीन के बीच पिछले कुछ सप्ताह से

डोकलाम को लेकर भारत और चीन के बीच विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है. चीन लगातार भारत को बॉर्डर से अपनी सेना हटाने को कह रहा है. पर भारत सीमा से सेना को नहीं हटाने पर अड़ा है. इस विवाद के बीच अब चीन ने देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल पर आरोप लगाया है कि डोकलाम में सीमा विवाद के पीछे उनका का ही दिमाग है. चीन ने कहा कि भारत ये सोचता है कि अजीत डोभाल की यात्रा से बीजिंग मान जाएगा तो ये बिल्कुल गलत है. उसने कहा कि सीमा विवाद सुलझाने के लिए डोभाल की यात्रा

बीजिंग चीन के अधिकारियों ने मशहूर कनाडाई सिंगर जस्टिन बीबर पर प्रतिबंध की घोषणा कर दी। अधिकारियों ने कहा कि बीबर को अपने हरकतों और विवादित गतिविधियों की वजह से देश में प्रस्तुति देने की अनुमति नहीं मिलेगी। बीबर इस वर्ष अपने 'पर्पज व‌र्ल्ड टूर' के तहत इंडोनेशिया, जापान, फिलीपींस, सिंगापुर व हांगकांग में प्रस्तुति देंगे। बीजिंग के कल्चर ब्यूरो ने एक बयान में कहा, 'जस्टिन बीबर बेहद अच्छे गायक हैं लेकिन उसी समय वह एक विवादित युवा विदेशी गायक भी हैं। उनकी सामाजिक गतिविधियां हमारे लिए चिंता का विषय है।' गौरतलब है कि बीबर ने 2013 में यहां प्रस्तुति दी थी। वह

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला ने जम्मू-कश्मीर की समस्या पर बड़ा बयान दिया है. शुक्रवार को उन्होंने कहा कि कश्मीर के मुद्दे पर भारत को अमेरिका और चीन की मदद स्वीकार कर लेनी चाहिए. उन्होंने कहा कि हम लोग चीन और पाकिस्तान से युद्ध नहीं कर सकते हैं, क्योंकि हमारी तरह उनके पास भी एटम बम हैं. इसलिए इस मुद्दे को बातचीत से ही सुलझाना चाहिए. अब्दुल्ला ने कहा कि दोस्तों का इस्तेमाल बातचीत करने के लिए, मुद्दे को हल करने के लिए कीजिए. अब्दुल्ला ने कहा कि कभी-कभी बैल को सींग से पकड़ना होता है, कभी ऐसा करना पड़ता