गुड़िया की चचेरी, फुफेरी बहनों के अलावा कई युवतियां मुंह पर काली पट्टियां बांधकर राज्य अतिथि गृह पीटरहाफ पहुंचीं। उन्होंने यहां तैनात पुलिस अधिकारियों के माध्यम से सीबीआई अधिकारियों को भीतर यह संदेश भेजा कि वे उन्हें राखी बांधना चाहती हैं। पहले अधिकारी आनाकानी करते रहे, लेकिन बाद में जब ये युवतियां अपनी जिद पर अड़ी रहीं तो गुड़िया की एक चचेरी बहन और एक स्वयंसेवी संस्था की प्रमुख तनुजा थापटा को भीतर आने की मंजूरी दी गई। पीटरहाफ की बेसमेंट में एक कमरे में चल रहे सीबीआई के अस्थायी कार्यालय में पहुंची इन युवतियों ने दो अधिकारियों को राखी बांधने

शिमला पहुंचते ही सीबीआई ने बहुचर्चित गुड़िया गैंगरेप हत्याकांड मामले की जांच शुरू कर दी है। मामले की जांच के लिए सीबीआई ने पहले दिन ही तीन टीमों का गठन कर लिया है। इनमें से एक टीम सोमवार को कोटखाई के लिए रवाना होगी तो दो अन्य टीमें शिमला में ही रहेंगी। सीबीआई की विशेष अपराध शाखा के डीआईजी की निगरानी में एसआईटी ने अपना काम शुरू कर दिया। 15 सदस्यों की इस टीम में पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक और पुलिस उपाधीक्षक से लेकर इंस्पेक्टर, सब इंस्पेक्टर आदि सभी स्तर के अधीनस्थ अधिकारी हैं। SIT ने तीन टीमें की हैं तैयार सीबीआई की

एक तरफ CBI तो दूसरी ओर ED, RJD प्रमुख लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं. शुक्रवार को लालू के 12 ठिकानों पर CBI के छापों के बाद, शनिवार को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने उनकी बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार के ठिकानों पर छापे मारे. बताया जा रहा है कि दोनों से पूछताछ भी की गई है. हालांकि शुक्रवार को हुई छापेमारी से इसका कोई ताल्लुक नहीं है. यह मामला मीसा और शैलेश की बेनामी संपत्ति से जुड़ा है. शनिवार सुबह ईडी ने मीसा भारती और शैलेश के तीन ठिकानों

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से पूछताछ के बाद अब सोमवार सुबह सीबीआई स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के घर पहुंच गई है. सीबीआई सतेंद्र जैन से कई सवालों के जवाब लेने के लिए उनके घर पहुंची है. हालांकि यह पूछताछ किस मामले में हो रही है इसका खुलासा अभी तक नहीं हो पाया है. स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के खिलाफ दिल्ली सरकार में नियुक्तियों को लेकर कई शिकायतें दर्ज की गई हैं. जिनमें से ज्यादातर शिकायतें तत्कालीन उपराज्यपाल नजीब जंग ने भेजी थी. इतना ही नहीं सत्येंद्र जैन पर हवाला कारोबार में लिप्त होने का भी आरोप है. आम आदमी पार्टी

दिल्ली के मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के घर सीबीआई की एक टीम पहुंची है। हालांकि ये सीबीआई की कोई रेड नहीं है बल्कि टॉक टू एके मामले में उनसे पूछताछ की जा रही है। बता दें कि टॉक टू एके मामले में चल रही जांच को लेकर मनीष सिसोदिया ने खुद सीबीआई को अपने घर पूछताछ के लिए बुलाया था। इसी सिलसिले में सीबीआई आज उनके सरकारी आवास पहुंची है और उनसे पूछताछ कर रही है। क्या है पूरा मामला गौरतलब है कि सीबीआई ने दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और अन्य लोगों के खिलाफ एक प्राथमिक जांच बैठाई है। यह जांच आम

सीबीआई ने  मामले में लेफ्टिनेंट कर्नल रंगनाथन सुव्रमणि मोनी को गिरफ्तार कर लिया है. कर्नल के अलावा बिचौलिए गौरव कोहली को भी गिरफ्तार किया है. दोनों के खिलाफ रविवार को FIR दर्ज की गई थी. सीबीआई ने बताया कि ले. कर्नल पर महीनों से नजर रखी जा रही थी और उनको निजी तौर पर पैसे के बदले तबादले करने के मामले में गिरफ्तार किया गया है. सीबीआई ने कहा कि कर्नल मोनी को बंगलुरु में तैनात एक अन्य अधिकारी से घूस लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया है. गौरव कोहली का पर्सनल विभाग में कई अधिकारियों से संपर्क था. सीबीआई के मुताबिक

सीबीआई ने हिमाचल प्रदेश उद्योग विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी को चंडीगढ़ में एक निजी फार्मासूटिकल कंपनी के मालिक से कथित रूप से रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया है।  सीबीआई ने बताया, 'उद्योग विभाग के संयुक्त निदेशक तिलक राज शर्मा को एक उद्योगपति से 3.5 लाख रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा गया, जिसकी पहाड़ी राज्य के औद्योगिक केंद्र बद्दी में फैक्ट्री है।' शिकायतकर्ता कंपनी में चाटर्ड अकाउंटेट है। उसने भारत सरकार की नीति के अनुसार कारखाने में स्थापित नई मशीनरी की खरीद पर 15 प्रतिशत कैपिटल इन्वेस्टमेंट सब्सिडी का दावा करने के लिए संयुक्त निदेशक के कार्यालय में

अयोध्या में विवादास्पद बाबरी ढांचा गिराए जाने के मामले में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती समेत सभी 12 आरोपियों को मंगलवार को जमानत मिल गई. विशेष सीबीआई अदालत में आरोपियों को 50-50 हजार रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दे दी गई. आरोपियों ने डिस्चार्ज ऐप्लिकेशन देकर अपने खिलाफ चार्ज खारिज करने की मांग की थी. उनका कहना है कि ढांचा गिराए जाने में उनकी कोई भूमिका नहीं है. कोर्ट ने यह मांग खारिज कर दी. इसका मतलब यह है कि इनके खिलाफ आरोप तय किए जाएंगे और साजिश से जुड़ी धारा भी जोड़ी जाएगी. आपको बता दें कि

लखनऊ यूपी की राजधानी स्थित सीबीआई की विशेष अदालत ने गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, उमा भारती और मुरली मनोहर जोशी को 30 मई को व्यक्तिगत रूप से अदालत के समक्ष पेश होने का निर्देश दिया. यह अदालत सन् 1992 के बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले की रोजाना सुनवाई कर रही है. अदालत ने आडवाणी तथा केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती को व्यक्तिगत पेशी से छूट देने से इनकार कर दिया. 6 दिसंबर, 1992 को बाबरी मस्जिद गिराने की साजिश में संलिप्तता को लेकर अदालत में चल रहे मामले की सुनवाई में व्यक्तिगत तौर पर पेशी से

आम आदमी पार्टी (आप) के निलंबित नेता कपिल मिश्रा अस्पताल से छुट्टी मिलते ही सीएम अरविंद केजरीवाल के खिलाफ सबूत सौंपने CBI के पास जाएंगे. कपिल मिश्रा रविवार को आम आदमी पार्टी के खिलाफ जारी किए गए सारे दस्तावेज CBI को सौंपेंगे. आपको बता दें कि पूर्व मंत्री ने पार्टी पर भ्रष्टाचार के कई गंभीर आरोप लगाए हैं और प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि आम आदमी पार्टी पिछले तीन वर्षों से काले धन को सफेद कर रही है. आम आदमी पार्टी द्वारा खुद को और नील को BJP का एजेंट बताए जाने से खफा कपिल मिश्रा ने एक तस्वीर साझा की,