लखनऊ यूपी की राजधानी स्थित सीबीआई की विशेष अदालत ने गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, उमा भारती और मुरली मनोहर जोशी को 30 मई को व्यक्तिगत रूप से अदालत के समक्ष पेश होने का निर्देश दिया. यह अदालत सन् 1992 के बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले की रोजाना सुनवाई कर रही है. अदालत ने आडवाणी तथा केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती को व्यक्तिगत पेशी से छूट देने से इनकार कर दिया. 6 दिसंबर, 1992 को बाबरी मस्जिद गिराने की साजिश में संलिप्तता को लेकर अदालत में चल रहे मामले की सुनवाई में व्यक्तिगत तौर पर पेशी से

दिल्ली मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह और उनके परिवार पर चल रहे आय से ज्यादा संपत्ति के मामले में अब प्रतिभा सिंह ने सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में याचिका दायर की है। अपनी याचिका में प्रतिभा सिंह ने सीबीआई की चार्जशीट पर संज्ञान न लेने की अपील की है। उन्होंने अपनी याचिका में कहा है कि सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल करते हुए पूरे कानूनी तौर-तरीके नहीं अपनाए, ऐसे में कोर्ट को चार्जशीट पर संज्ञान नहीं लेना चाहिए। सीएम की पत्नी की याचिका पर कोर्ट ने सीबीआई को नोटिस जारी कर दिया है और मामले की अगली सुनवाई 1 मई को तय की है।