कैलिफोर्निया में एक हफ्ते के अंदर दो अलग-अलग घटनाओं में दो सिख अमेरिकी नागरिकों की हत्या कर दी गई। यह जानकारी सामुदायिक संगठनों और मीडिया की खबरों में दी गई है। 68  साल के सुबाग सिंह 23 जून की सुबह लापता हो गए थे जिसके बाद वह एक नहर में मृत पाए गए। उनके शरीर पर जख्म के निशान हैं। कैलिफोर्निया के कानून लागू करने वाले अधिकारियों ने बताया कि वह पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं कि बुजुर्ग सिख की हत्या के पीछे किसका हाथ है। वहीं, दूसरी ओर मोहाली के युवक सिमरनजीत सिंह भंगू (20) का अमेरिका के शहर

अमेरिका के कैलिफोर्निया में रहने वाले तेलंगाना के 26  साल के युवक पर 3 जून को गोली चला दी गई। मुबीन अहमद नाम के इस युवक की हालत गंभीर बताई जा रही है।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हमला उस जगह हुआ जहां युवक काम करता था। वह इस स्टोर में पार्ट टाइम काम करता था। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि उस दिन मुबानी स्टोर पर काम कर रहा था, तभी कुछ अश्वेत मूल के लोग कुछ खरीदारी करने आए और उन्होंने उसपर गोली चला दी। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज इस मामले पर नजर बनाए हुए है। उन्होंने इस मामले को लेकर

अमेरिका में ट्रंप सरकार बनने के बाद भारतीयों पर नस्लीय हमले हो रहे हैं। अब एक भारतीय की अमेरिका में हत्या कर दी गई है। पंजाब के कपूरथला के गांव हबीबवाल के रहने वाले जगजीत सिंह की चाकू मारकर हत्या कर दी गई। जगजीत सिंह डेढ़ साल पहले अमेरीका गए थे। जगजीत सिंह एक स्टोर पर काम करते थे और वो कैलिफोर्निया के शहर मडेस्टो में स्टोर बंद कर रहे थे तभी उन पर हमला कर दिया गया। बताया जा रहा है स्टोर पर एक अमेरिकी सिगरेट लेने आया था वहां कानून के मुताबिक जगजीत सिंह ने उससे आईडी की मांग