भारत ने आतंकी कमांडर बुरहान वानी की तारीफ करने के लिए पाकिस्तान काे अाज लताड़ गई है. पाक की आलोचना करते हुए भारत ने कहा कि इस्लामाबाद द्वारा आतंकवाद को समर्थन और उसे प्रायोजित करने की सभी आेर से निंदा करने की आवश्यकता है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने कहा, 'पहले एफॉरेनऑफिसपीके ने प्रतिबंधित लश्कर-ए-तैयबा की स्क्रिप्ट पढ़ी. अब पाक सीआेएएस (पाकिस्तान सेना के प्रमुख) बुरहान वानी का तारीफ कर रहे हैं. आतंकवाद को पाक समर्थन और उसे प्रायोजित करने की निंदा सभी को करनी चाहिए. आपको बता दें कि पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने हिजबुल मुजाहिद्दीन

आतंकी बुरहान वानी के एनकांउटर को आज एक साल पूरा हो गया है। श्रीनगर में हिंसा की आशंका और अलगाववादियों के बंद के आह्वान पर घाटी में भारी फोर्स तैनाती की गई है। श्रीनगर के साथ ही दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग और पुलवामा समेत उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले में धारा एक सौ चवालिस लागू कर दी गई है। हर किसी के बाहर निकलने और वाहनों के चलने पर पाबंदी रहेगी।  हालांकि, आपात सेवा और कर्मचारियों को इस सेवा से मुक्त रखा गया है, साथ ही इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई है। पाक ने फिर तोड़ा सीजफायर उधर, पुंछ में पाकिस्तान

मारे गए आतंकी बुरहान वानी की बरसी पर हंगामे की आशंका को देखते हुए अलगाववादी नेताओं के खिलाफ सुरक्षा बलों ने धरपकड़ अभियान चला रखा है. हुर्रियत नेता मीरवाइज उमर फारूक और सैयद अली शाह गिलानी को उनके घर में ही नजरबंद कर दिया गया है. दूसरी ओर यासीन मलिक को सुरक्षा बलों ने गिरफ्तार किया है. इनके अलावा अन्य स्थानीय नेताओं को भी गिरफ्तार किया गया है. बुरहान वानी की बरसी पर कश्मीर के आईजीपी मुनीर खान ने कहा कि अलगाववादी नेताओं की ओर से हंगामे की आशंका को देखते हुए सुरक्षा बढ़ा दी गई है. हालांकि इंटरनेट ब्लॉक करने को लेकर

कश्मीर में बिगड़े हालातों के बीच सोमवार को पुलवामा कॉलेज में आतंकी बुरहान वानी के पोस्टर लगाए गए. छात्रों ने पुलवामा डिग्री कॉलेज के प्रशासनिक ब्लॉक पर बुरहान वानी का पोस्टर लगाया. पोस्टर लगाने के बाद छात्रों और पुलिस के बीच जमकर झड़प हुई. दो दिन की छुट्टियों के बाद सोमवार को पुलवामा डिग्री कॉलेज फिर से खुला. छात्रों ने पहले कॉलेज के प्रशासनिक ब्लॉक पर हिजबुल कमांडर बुरहान वानी का पोस्टर लगाया और फिर पुलिस पर पत्थर फेंके. कुछ समय बाद छात्रों ने कॉलेज से बाहर आकर शहर में अन्य पत्थरबाजों के साथ पुलिस वाहनों पर पत्थरबाजी की. पत्थरबाजों को