भिवानी में बवानीखेडा पुलिस ने एक हत्यारी मां को गिरफ्तार किया है, जिसने अपनी ही बेटी को जहर देकर मौत के घाट उतार दिया था। हैरानी की बात है ये है कि हत्यारों ने शव को खुर्दबुर्द करने के लिए पहले से मृत एक व्यक्ति की चिता में जला दिया। इस मामले में पुलिस ने दस नामजद आरोपियों में से पांच को पहले ही गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन हत्यारी मां करीब एक साल से फरार चल रही थी। बवानीखेड़ा थाना प्रभारी भगवान सिंह ने बताया कि पड़ोस के लड़के के साथ सात से आठ दिन घर से लापता होने

छेड़छाड़ मामले में फंसे विकास बराला के साथी आशीष के परिजन भिवानी में मीडिया के सामने आए हैं। आशीष के परिजनों ने अपने बेटे को बेकसूर बताया है और कहा कि राजनीति के चलते उनके बेटे को फंसाया जा रहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए ताकि सच्चाई सामने आ सके।

भिवानी के  सुई गांव में पहली क्लास में पढ़ने वाले मासूम छात्र की स्कूल के साथ बने जोहड़ में डूबने से मौत हो गई। मृतक छात्र के परिजनों ने स्कूल स्टाफ पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए स्कूल पर ताला जड़ कर हंगामा किया। मृतक बच्चे के परिजनों का आरोप है कि उनका बच्चा स्कूल आया और स्कूल का गेट खुला होने और गेट पर कोई चौकीदार ना होने के चलते बच्चा स्कूल से निकल कर जोहड़ में डूब गया। परिजनों ने बच्चे की मौत के लिए स्कूल स्टाफ की लापरवाही को जिम्मेदार बताकर हंगामा किया और स्कूल के मुख्य

भिवानी की सीआईए टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर धनाना गांव में छापेमारी कर भारी मात्रा में नशीला पदार्थ बरामद किया। पुलिस ने करीब 15 लाख रुपए कीमत के 320 किलोग्राम डोडा, चूरा पोस्त के साथ एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। दरअसल जिला पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि धनाना गांव में एक व्यक्ति अपने रिश्तेदार की मदद से काफी समय से डोडा पोस्त की तस्करी कर रहा है। डीएसपी हेडक्वार्टर चंद्रपाल के नेतृत्व में पुलिस की टीम गांव धनाना पहुंची और बलबीर नाम के व्यक्ति को चूरा, डोडा पोस्त के साथ गिरफ्तार किया।

भिवानी में म्युनिसिपल काउंसिल के पूर्व अध्यक्ष रेमश मस्ता की 13 साल पहले की गई हत्या के मामले में उम्र कैद की सजा काट रहा व्यक्ति पैरोल लेकर फरार हो गया था, लेकिन रविवार को उसे साथ साथियों के साथ गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के मुताबिक राहुल करनाल जेल में उम्र कैद की सजा काट रहा था। वो एक मार्च को बयालीस दिन की पैरोल पर बाहर आया था, लेकिन बारह अप्रैल से फरार था। जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए राहुल और उसके चार साथियों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उनके पास से तीन पिस्तौल, 15 कारतूस और