बरनाला में एक और चिटफंड कंपनी रोजवैली लोगों के लाखों रुपये लेकर रफूचक्कर हो गई है। पुलिस ने कंपनी की संचालिका के अलावा कंपनी से जुड़े दो लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है। आरोपी अभी फरार हैं। थाना सिटी के प्रभारी अशोक कुमार ने बताया कि उनके पास पूनम रानी पत्नी पवन कुमार निवासी बरनाला ने शिकायत दर्ज करवाई थी। कहा था कि बरनाला के गगनदीप शर्मा पुत्र हरबंस लाल, नरेश कुमार पुत्र किशन कुमार और पिंकी रानी पत्नी नरेश कुमार ने मिलकर रोजवैली नामक एक चिटफंड कंपनी बनाई थी। वे लोगों को उनके रुपये दोगुने

बरनाला के छन्ना गांव में एक लोहा फैक्‍टरी में धमाका हो जाने से तीन कर्मचारियाें की मौत हो गई और दो गंभीर रूप से घायल हो गए। एसआर स्टील इंडस्ट्री नामक इस फैक्‍टरी में धमाका हाइड्रोलिक पंप के कम्‍प्रेशर के फटने से धमाका हुआ। घायल कर्मचारियों को डीएमसी अस्‍पताल रेफर किया गया है। पुलिस ने बताया कि गांव फहतेगढ़ छन्ना में एसआर स्टील इंडस्ट्री के मालिक मानक गर्ग ने लुधियाना निवासी डाई मेकर विशाल कुमार को फैक्टरी में हाइड्रोलिक पंप के टाईप कम्‍प्रेशर काे ठीक कराने के लिए बुलाया था। विशाल कुमार अपने साथ मिस्त्री मंदीप सिंह के साथ  कम्‍प्रेशर को

बरनाला पुलिस ने करोड़ों की ठगी करने वाले एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। इस व्यक्ति ने चिटफंड कंपनी के नाम पर लोगों को करोड़ों रुपए का चूना लगाया था। इसको लेकर 2015 में पुलिस ने प्रमोद कांसल नाम के इस व्यक्ति के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया था। आरोपी क्रिस्टल नाम की चिटफंड कंपनी में लोगों को ज्यादा इंटरेस्ट का लालच देकर अपने जाल में फंसाता था और पैसे इक्कठा होने के बाद फराह हो जाता था। इसको कोर्ट ने भी 2016 में इसे भगो़ड़ा घोषित किया था और अब आखिरकार पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

पंजाब में निवेश के नाम पर करोड़ों रुपए की ठगी करने के मामले में बरनाला पुलिस ने अमृतसर में क्राउन कंपनी के आफिस में छापेमारी की और उसके आफिस को सील कर दिया। दरअसल, इस कंपनी ने पंजाब के लोगों को ज्यादा ब्याज का लालच देकर  प्रदेश के बाहर की कंपनियों में निवेश करवा दिया और इस तरह इन्होंने करोड़ों की ठगी कर ली। इनके खिलाफ बरनाला में कई मामले दर्ज किए गए हैं, इन मामलों में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने अब इनका ऑफिस सील कर दिया है।

बरनाला के छीनीवाल कलां गांव में धोखाधड़ी का शिकार हुए एक किसान ने फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। पुलिस के मुताबिक सुखचैन सिंह ने सात साल पहले गांव के ही दर्शन सिंह से एक एकड़ जमीन तेरह लाख रुपए में खरीदी थी। इस दौरान दर्शन सिंह ने सुखचैन सिंह को ना तो जमीन का कब्जा दिया, और ना ही उनके तेरह लाख रुपए लौटाए, जिसके चलते सुखचैन सिंह मानसिक तौर पर परेशान रहता था और आखिरकार उसने फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। वहीं, पुलिस को मृतक की जेब से एक सुसाइड नोट मिला है, जिसमें पांच व्यक्तियों को अपनी मौत का

बरनाला के टल्लेवाल में पुलिस ने फेक विदेशी करंसी बरामद की है। पुलिस ने बताया कि तीन लोगों को करीब बीस हजार फेक अमेरिकी डॉलर के साथ गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि ये फेक करंसी मोगा के भागीके गांव से एक एनआरआई के घर से लाई गई थी, जो आस्ट्रेलिया में रहता था। आरोपियों में एक उसी NRI का दामाद है। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है