देहरादून इंडियन मिलिट्री अकेडमी देहरादून में पासिंग आउट परेड के दौरान रिक्रूट्स को संबोधित करते हुए शनिवार को भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने जम्मू-कश्मीर में महिला सैनिकों की तैनाती की बात कही. उन्होंने कहा, ‘कश्मीर में ऑपरेशन के दौरान जवानों के सामने ढाल बनकर महिलाएं खड़ी हो जाती हैं. इससे परेशानी का सामना करना पड़ता है. इस समस्या से निपटने के लिए सेना में महिला पुलिस जवान की नियुक्ति की जाएगी.’ आर्मी चीफ ने आगे कहा, ‘क्योंकि हम लोग कई बार जब ऑपरेशन में जाते हैं तो हमें आवाम का सामना करना पड़ता है. कई बार तो महिलाएं ही हमारे सामने

इतिहासकार पार्था चटर्जी द्वारा भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की तुलना ब्रिटिश जनरल डायर से करने पर विवाद खड़ा हो गया है. दरअसल पार्था चटर्जी ने अपने एक लेख में कश्मीर में मानव ढाल वाली घटना के संदर्भ में जनरल रावत की तुलना डायर से कर दी. चटर्जी ने एक न्यूज पोर्टल के लिए 2 जून को लिखे गए लेख में लिखा है कि कश्मीर ‘जनरल डायर मोमेंट’ से गुजर रहा है. उन्होंने कहा कि वर्ष 1919 में जलियांवाला बाग हत्याकांड के पीछे ब्रिटिश सेना के तर्क और कश्मीर में भारतीय सेना की कार्रवाई (मानव ढाल) का बचाव, दोनों में

भारतीय सेना के प्रमुख बिपिन रावत श्रीनगर पहुंच गए है. श्रीनगर में सेना प्रमुख बिपिन रावत सेना के कमांडरों से मुलाकात करेंगे और घाटी में सुरक्षा हालातों के अलावा एलओसी पर जाकर भी हालात का जायजा ले सकते हैं. हाल ही में घाटी में पत्थरबारी की घटनाएं काफी बढ़ी हैं. इसके अलावा आतंकी भी लगातार घुसपैठ की कोशिश कर रहे हैं.