अमृतसर के पुतलीघर में एक प्लाट के कब्जे को लेकर बीती 18 जून को हुए झगड़े में घायल हुए पीसीआर पुलिसकर्मी के परिवार ने पुलिस पर कार्रवाई ना करने का आरोप लगाया है। घायल हुए पुलिस कर्मी राकेश कुमार की पत्नी मोनिका बावा ने कहा है कि पुलिस हमला करने वाले पूर्व पार्षद सुरेंद्र चौधरी और उनके साथियों से मिली हुई है। पुलिस को जानकारी होते हुए भी पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस ने कार्रवाई नहीं कि तो वे पुलिस कमिश्नर के कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन करेंगी। वहीं, पुलिस के मुताबिक आरोपी पार्षद

अमृतसर शिक्षकों एवं चिकित्सकों की कमी से जूझ रहे अमृतसर व पटियाला सरकारी मेडिकल कॉलेजों में 400 सीनियर रेजीडेंट डॉक्टरों की तैनाती की जाएगी. पंजाब सरकार द्वारा इन डॉक्टरों की नियुक्ति की प्रक्रिया सोमवार को संपन्न कर ली जाएगी. यदि ये 400 डॉक्टर इन दोनों मेडिकल कॉलेजों में ज्वाइन करते हैं तो निसंदेह इन कॉलेजों की कई समस्याएं खत्म हो जाएंगी. दरअसल, मेडिकल शिक्षा एवं खोज विभाग अरसे से सीनियर रेजीडेंट डॉक्टरों की तैनाती के लिए प्रयास कर रहा है. पिछले वर्ष भी डॉक्टरों की भर्ती प्रक्रिया संपन्न हुई थी, लेकिन स्टेशन अलॉटमेंट के बावजूद डॉक्टरों ज्वाइन नहीं किया। इसका सही कारण

अमृतसर मां के इलाज के लिए राजस्थान से आई पूनम कौर का एक सप्ताह पहले पर्स स्नैच हुआ और इस मंगलवार को स्नैचर उसका मोबाइल फोन छीन फरार हो गया. पूनम ने बताया कि पर्स लूटे जाने की शिकायत तो उन्होंने थाने में नहीं की, लेकिन अब वह अपना मोबाइल फोन लेकर ही वापस लौटेगी. थाना रामबाग की पुलिस ने पूनम की शिकायत पर कार्रवाई शुरू कर दी है और घटना स्थल से मिली सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपी को ढूंढना शुरू कर दिया है. पूनम ने बताया कि पिछले हफ्ते पर्स छीने जाने के बाद पैसों की कमी के चलते

अमृतसर अमृतसर में छात्रा से दुष्कर्म का मामला सामने आया है. खासला कॉलेज में दाखिला लेने गई छात्रा से एक युवक ने जूस में नशीला पदार्थ मिलाकर दुष्कर्म किया. पीड़िता के परिजनों ने पुलिस पर कार्रवाई ना करने का आरोप लगाया है, वहीं पुलिस का कहना है कि उनके पास दुष्कर्म की शिकायत आई थी जिसपर मामला दर्ज कर लिया है और आरोपी युवक को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

अमृतसर में मजीठा हलके के जेठू गांव में एक महिला ने अपने नंदोई की हत्या कर दी। महिला कुछ दिन पहले ही अपने पति की हत्या के आरोप में सजा काटकर वापस आई थी और अब उसने अपने नंदोई की हत्या कर दी। जानकारी के मुताबिक, जब महिला जेल से बाहर आई तो उसे पता चला की उसकी सास ने मृतक को घर जमाई बना लिया और सारी जायदाद उसके नाम कर दी। ये बात महिला को रास नहीं आई और उसने उसकी हत्या कर दी। इस वारदात में महिला के अलावा उसके तीन साथी भी शामिल थे। पुलिस ने

अमृतसर के थाना सी-डिवीजन के सामने एक व्यक्ति की बेरहमी से हत्या का मामला सामने आया है। हत्या दीपू नाम के एक गैंगस्टर ने की है। जानकारी के मुताबिक, अमृतसर के गुज्जर पुरा इलाके में एक गैंगस्टर दीपू कबाडिए ने शराब के ठेके पर जाकर फायरिंग कर दी, जिससे ठेके पर काम कर रहा राजकुमार को गोली लग गई। गोली लगने के तुरंत बाद पीड़ित को अस्पताल में भर्ती करवाया गया, लेकिन इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया। जानकारी के मुताबिक, शराब के ठेके के मालिक आनंद के साथ दीपू की पुरानी रंजिश थी और वो उसकी हत्या करने के

अमृतसर पुलिस ने लूट गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इनके पास से चोरी की दो बाइक, 15 मोबाइल और दो एलईडी टीवी बरामद की हैं। पुलिस के मुताबिक ये दोनों लुटेरे पिछले काफी समय से अलग-अलग इलाकों में लूट की वारदातों को अंजाम दे रहे थे। इसी बीच इनको पुलिस ने नाकेबंदी के दौरान गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए लुटेरों पर पहले से भी कई मामले दर्ज हैं। पुलिस को पूछताछ में कई बड़े खुलासे होने की उम्मीद है।

अमृतसर के घनुपुर इलाके में उस समय सनसनी फैल गई, जब पारिवारिक विवाद को लेकर दो गुट आपस में भिड़ गए। देखते ही देखते दोनों तरफ से फायरिंग शुरू हो गई और एक दूसरे पर तेजधार हथियारों से हमला करने लगे। इस हमले में गोली लगने से एक युवक घायल हो गया, जिसे पास के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। पुलिस का कहना है दोनों गुटों में राजीनामे के बाद फिर से झगड़ा हुआ है।

अमृतसर शहर के एक निजी अस्पताल के डॉक्टर की लापरवाही के चलते मरीज की मौत का मामला सामने आया है. जिसके बाद मृतक के परिजनों ने अस्पताल परिसर में जमकर हंगामा किया. बताया जा रहा है कि ऑपरेशन के बाद मरीज की अचानक तबीयत खराब होने लगी और कुछ दिन बाद ही उसकी मौत हो गई. परिजनों ने डॉक्टर पर गलत आपरेशन करने का आरोप लगाया है. वहीं, मृतक के परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा भी किया. उनका आरोप है कि ऑपरेशन के बाद डॉक्टर ने मरीज (हरचरण) की बिगड़ती हालत पर ध्यान नहीं दिया, जिससे उसकी मौत हो गई. वहीं, पुलिस

अमृतसर डीआईजी (जेल) की अध्यक्षता में शनिवार को शहर के सेंट्रल जेल में सर्च ऑपरेशन चलाया गया. इस सर्च ऑपरेशन में कैदियों के पास से 24 मोबाइल बरामद किए गए है. बताया जा रहा है कि जेल में बंद दो कुख्यात गैंगस्टर्स स्मार्ट फोन का इस्तेमाल करते हुए पकड़े गए, जो लंबे समय से जेल के बाहर किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने वाले थे. वहीं, जेल का औचक निरीक्षण करने आई विशेष टीम के साथ डॉग स्क्वॉड दस्ता भी मौजूद था. इसके अलावा टीम ने मेटल डिटेक्टर से भी जेल परिसर की तलाशी ली. एसपी (जेल) हरिंदर जीत सिंह ने बताया कि सर्च