पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आम आदमी पार्टी के विधायक सुखपाल सिंह खैरा पर सियासी हमला बोलते हुए कहा है कि खैरा को कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह के खिलाफ आरोपों की जांच कर रहे रिटायर्ड जस्ट्सि जे.एस. नारंग की ईमानदारी और निष्ठा पर शक करने का कोई अधिकार नहीं है. उन्होंने जस्टिस नारंग तथा मंत्री राणा गुरजीत सिंह के निकट संबंधों पर उठाए गए सभी सवालों को खारिज कर दिया, मुख्यमंत्री ने कहा कि जस्टिस नारंग एक पेशेवर व्यक्ति हैं, अगर कोई जज किसी के साथ रिश्तेदारी रखता है या पेशेवर ढंग से जुड़ा हुआ है तो इसका

पंजाब में रेत खनन घोटाले पर सियासत गरमाती जा रही है. सुखपाल खैरा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बिजनेसमैन कैप्टन रंधावा के दावों को बेबुनियाद बताया और कैप्टन सरकार की ओर से इस घोटाले की जांच को मजाक बताया. वहीं, शिरोमणि अकाली दल ने भी कैप्टन सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और राणा गुरजीत के इस्तीफे की मांग की है.