पिछले महीने उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में हुई जातीय हिंसा की उत्तर प्रदेश सरकार ने जांच रिपोर्ट गृह मंत्रालय को सौंप दी है. रिपोर्ट में कहा गया है कि सहारनपुर में जातीय हिंसा एक बड़ी साजिश का परिणाम थी. साथ ही इस रिपोर्ट में भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर को मुख्य साजिश रचने वाला बताया है. सरकार की इस रिपोर्ट में हिंसा के पीछे चंद्रशेखर के साथ साथ 35 लोगों का हाथ बताया है. इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि हिंसा ना रोक पाने के पीछे दो अफसरों की लापरवाही भी सामने आई है. रिपोर्ट में कहा गया

यूपी के सहारनपुर जिले में हुए जातीय हिंसा मामले में भीम आर्मी मुखिया चंद्रशेखर आजाद ऊर्फ रावण को पुलिस ने हिमाचल के डलहौजी से गिरफ्तार कर लिया है. उसे गुरुवार सुबह करीब 10.30 बजे डलहौजी के सुभाष चौक से गिरफ्तार किया गया. इसके खिलाफ कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी किया था. इसके सिर पर 12 हजार का इनाम घोषित है. जानकारी के मुताबिक, सहारनपुर जातीय हिंसा के बाद रावण लगातार सोशल मीडिया पर अपने वीडियो संदेश के जरिए भड़काऊ बयान दे रहा था. इसके बाद सहारनपुर के डीआईजी सुनील इमेनुएल की संस्तुती पर रावण और उसके 3 साथियों पर 12-12

यूपी सरकार में राज्यमंत्री स्वाति सिंह ने मंगलवार को एक भंडारे का आयोजन किया. खास बात यह रही कि इस दौरान वे लोगों को प्रसाद के साथ 100 रुपए भी बांटती नजर आईं. बता दें, स्वाति सिंह इन दिनों चर्चा में बनी हुई हैं. चर्चा है कि सीएम योगी भी बियर बार मामले के बाद मंत्री से नाराज हैं. कृष्णानगर के लोकबन्धू अस्पताल के सामने लखनऊ के सरोजनीनगर सीट से विधायक स्वाति सिंह का कार्यालय है. मंगलवार को यहां भंडारे का आयोजन किया गया. भंडारे की शुरुआत मंत्री स्वाति सिंह ने की. इस दौरान उन्होंने प्रसाद की हर प्लेट में 100-100 रुपए