भारतीय वायुसेना के लापता हुए एक सुखोई 30 लड़ाकू विमान का मलबा आज तीन दिन के तलाशी अभियान के बाद असम में मिला. सुखोई लड़ाकू विमान मंगलवार को सुबह साढ़े दस बजे तेजुपर सलोनिबारी वायुसेना स्टेशन से उड़ान भरने के बाद लापता हो गया था. यह नियमित प्रशिक्षण उड़ान पर था और इसमें चालक दल के दो सदस्य सवार थे. आपको बता दें कि यह लड़ाकू विमान मंगलवार सुबह करीब 9.30 बजे नियमित ट्रेनिंग के उड़ा पर था और करीब 11.30 बजे तेजपुर से 60 किलोमीटर उत्तर में चीन सीमा के पास स्थित अरुणाचल प्रदेश के दोउलसांग के पास रडार से

भारत-चीन सीमा के पास भारतीय वायुसेना का सुखोई-30 जेट लापता हो गया है. बताया जा रहा है कि विमान में दो पायलट सवार थे. उड़ान के बाद रडार से संपर्क टूटने के बाद विमान लापता हो गया. इस विमान ने असम के तेजपुर एयरबेस से सुबह 10.30 बजे उड़ान भरी थी लेकिन 11 बजे के बाद इसका रेडियो और रडार संपर्क टूट गया. आपको बता दें कि यह विमान अंतिम बार तेजपुर से 60 किलोमीटर उत्तर में देखा गया था. वायुसेना ने लापता विमान की तलाशी का अभियान शुरू कर दिया है लेकिन अभी तक कुछ पता नही चल पाया है.