कतर के विदेश मंत्री ने कहा है कि अरब देशों द्वारा दोहा के साथ राजनयिक संबंध खत्म करने के बाद उपजे राजनयिक संकट को सुलझाने में कुवैत मध्यस्थता करने का प्रयास कर रहा है. मंत्री ने कहा है कि कुवैत के शासक ने कतर के अमीर शेख तमीम बिन हम्माद अल थानी को संकट पर संबोधन देने से रुकने को कहा है. विदेश मंत्री शेख मुहम्मद बिन अब्दुल रहमान अल थानी ने बताया कि उनका देश उन्हें खारिज करता है जो अपनी इच्छा कतर पर थोपने का प्रयास कर रहे हैं या इसके आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने की कोशिश कर

सऊदी अरब, बहरीन, मिस्त्र और संयुक्त अरब अमीरात ने कतर से रिश्ते खत्म करने का ऐलान कर दिया. चारों देशों ने कतर के साथ डिप्लोमेटिक रिश्तों के साथ जमीन, समुद्र और हवाई रिश्ते भी खत्म कर दिए. आतंकी और चरमपंथी संगठनों को समर्थन का आरोप लगाते हुए कतर के खिलाफ ये एक्शन लिया गया. सऊदी अरब ने अपने फैसले की जानकारी देते हुए कहा कि सऊदी को आतंकवाद और कट्टरपंथ से बचाने के लिए यह कदम उठाना जरूरी था. सऊदी ने कहा कि देश के साम्राज्य को बचाने के लिए ये कदम उठाया गया है. वहीं बहरीन ने कहा है कि वह