दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जर्मनी के कर्जदार हैं. इसका खुलासा अमेरिकी सरकार के एथिक्स कार्यालय की ओर जारी वित्तीय रिपोर्ट में किया गया है. इसमें कहा गया है कि डोनाल्ड ट्रंप पर जर्मनी, अमेरिका और अन्य उधारदाताओं का 20 अरब रुपये (31.56 करोड़ डॉलर) से ज्यादा का कर्ज है. अमेरिका की संघीय वित्तीय रिपोर्ट के मुताबिक ट्रंप पर यह कर्ज साल 2017 के मध्य के दौरान का है. सफल कारोबारी से राष्ट्रपति बनने वाले डोनाल्ड ट्रंप के नए वाशिंगटन होटल से करीब दो करोड़ डॉलर से ज्यादा का मुनाफा हुआ. व्हाइट हाउस के नजदीक स्थित इस होटल को

अमेरिका के पूर्व अटॉर्नी प्रीत भरारा ने डोनाल्ड ट्रंप पर आरोप लगाते हुए कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति के खिलाफ मुकदमे के लिए पर्याप्त सबूत मौजूद हैं. उन पर न्याय में अवरोध का मामला दर्ज किया जा सकता है. भरारा ने कहा, "वे कई बार बेवजह फोन करते थे। जब मैं जेम्स कोमी को हटाने की कहानी पढ़ता हूं तो लगता है ये सब तो मेरे साथ भी किया जा चुका है।" भरारा ने कहा कि राष्ट्रपति को फोन न करने का उनका फैसला सबके हित में था। दरअसल, उन्हें बर्खास्त किए जाने से ठीक दो दिन पहले ट्रंप के दफ्तर से फोन आया

व्हाइट हाउस ने कहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चाहते हैं कि आतंकवाद से निपटने के लिए नाटो के सदस्य देश ज़्यादा बड़े प्रयास करें, और साथ ही वह यह भी चाहते हैं कि सदस्य देश ज़्यादा से ज़्यादा आर्थिक सहयोग करें. व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर ने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "नाटो के लिए पूरे सम्मान के साथ, एक तो वह (डोनाल्ड ट्रंप) आतंकवाद से निपटने के लिए ज़्यादा बड़े प्रयास होते हुए देखना चाहते हैं और दूसरा वह चाहते हैं कि जो देश आर्थिक सहायता के लिए सहमत हुए थे, उसे वे पूरा करें. डोनाल्ड ट्रंप