चरखी दादरी के तिवाला गांव में एक महिला ने अपनी भतीजी को सिरसा डेरे से मुक्त कराने की गुहार लगाई है। पीड़ित महिला का कहना है कि दस साल पहले भाई और बहन को डेरे में सेवा के लिए भेजा गया था, लेकिन उनके बेटे को करनाल के नाम चर्चा घर में भेज दिया गया और लेकिन डेरे के लोग उसकी भतीजी के बारे में कोई भी जानकारी नहीं दे रहे हैं। पिछले सात साल में उनकी केवल दो बार ही बात हुई है. अब पीड़ित परिवार ने सीएम से मदद की गुहार लगाई है।

डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम ने कोर्ट में पेश होने से पहले ही एक खौफनाक साजिश रची थी। राम रहीम का सजा सुनाए जाने के बाद अपने सिक्योरिटी कमाडोंज की मदद से भागने का प्लान था। ये खुलासा हरियाणा पुलिस के आईजी केके राव ने किया है। केके राव उस समय पंचकूला में ही तैनात थे। उन्होंने बताया कि बाबा पूरी प्लानिंग के साथ पंचकूला की कोर्ट में पहुंचे थे। उन्होंने अपने बॉडीगार्ड्स को पहले ही बता दिया था कि जैसे ही कोर्ट का फैसला आएगा तो उन्हें क्या करना होगा। उन्हें भगाने की प्लानिंग में उनकी सिक्युरिटी में तैनात हरियाणा

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह का पहला म्यूजिक एल्बम 'हाईवे लव चार्जर' नाम से 2014 में आया था। इससे एक साल से भी कम समय में राम रहीम की पहली फिल्म एमएसजी: द मैसेंजर ऑफ गॉड रिलीस हुई जिसके साथ ही डेरा प्रमुख रॉक स्टार बाबा के अवतार बन गए। राम रहीम के न सिर्फ लाखों अनुयायी हैं बल्कि वह एक सिंगर, फिल्म डायरेक्टर, ऐक्टर, लेखक, गीतकार जैसे कई और काम करते हैं। अपने ट्विटर अकाउंट पर भी उन्होंने परिचय में इन सब पहलुओं का जिक्र किया है। कस्टम मेड कार और जेट से चलने वाले डेरा प्रमुख का

डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के बारे में ये कहना गलत नहीं होगा कि दुनिया चाहे उनसे नफरत करें या उन पर हंसे लेकिन उन्हें नजरअंदाज नहीं कर सकती. इसकी वजह है उनका अपने कई कारनामों को लेकर सुर्खि‍यों में रहना. संत से ज्यादा रॉकस्टार अंदाज के लिए फेमस हुए डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख की फिल्मों के बारे में ये तथ्य जानकर शायद आप यकीन ना कर पाएं. फिल्म एमएसजी-2 के लिए डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम सिंह इंसां को बेस्ट एक्टर, डायरेक्टर और राइटर तीनों कैटेगरी में दादा साहेब फाल्के फिल्म फाउंडेशन अवाॅर्ड से नवाजा जा चुका है.

गुरमीत राम रहीम सिंह अपने माता-पिता की इकलौती संतान हैं. इनका जन्म 15 अगस्त, 1967 को राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले के गुरुसर मोदिया में जाट सिख परिवार में हुआ था. राम रहीम के पिता का नाम मघर सिंह और मां का नाम नसीब कौर है. उनकी तीन बेटियां और एक बेटा है. इनमें से एक बेटी को राम रहीम ने गोद लिया है. सन् 1990 में उन्होंने एक सत्संग के दौरान संन्यास लिया था. राम रहीम को 7 साल की उम्र में ही 31 मार्च, 1974 को तत्कालीन डेरा प्रमुख शाह सतनाम सिंह जी ने नाम दिया था. 23 सितंबर, 1990 को

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख संत राम रहीम पर 25 अगस्त को पंचकूला की विशेष सीबीआई कोर्ट अपना फैसला सुनाएगी, जिसको को लेकर हरियाणा और पंजाब में सुरक्षा सख्त कर दी गई है। वहीं, बठिंडा के डेरा सलाबतपुरा में भी डेरा प्रेमी जमा होने लगे हैं और सभी से आपसी भाई-चारा बनाए रखने की अपील की जा रही है। इसके अलावा डेरा प्रेमियों ने अफवाहों की निंदा की है और किसी भी तरह की अफवाह पर ध्यान ना देने की अपील की है।

चंडीगढ़ डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के खिलाफ चल रहे साध्वी यौन शोषण मामले में 25 अगस्त फैसला आना है। फैसला पंचकूला सीबीआइ कोर्ट सुनाएगी। इसके मद्देनजर प्रशासन जहां पर्याप्त चौकसी बरत रहा है, वहीं डेरा प्रेमी पंचकूला में एकत्र होने शुरू हो गए हैं। डेरा प्रेमी मंगलवार देर रात से शहर में धारा 144 लागू होने के बावजूद सेक्टर 23 स्थित नामचर्चा घर व आसपास के इलाके में डटे हैं। इनकी संख्या करीब 50 हजार से ज्यादा है। अभी डेरा प्रेमियों के आने का क्रम जारी है। डेरा प्रेमी न जुटें इसके लिए सीमाएं सील कर दी गई