मानसून केरल पहुंच चुका है और जल्द देश के अन्य हिस्सों में भी इसकी आमद होगी लेकिन हल्की बूंदाबांदी के बावजूद पूर्वी भारत गर्मी की आग में झुलस रहा है। रविवार को तो जैसे आसमान से बरसती आग के साथ लू के थपेड़ों ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया। छुट्टी के दिन दिल्ली में गर्मी ने एक दशक का रिकॉर्ड तोड़ दिया। यहां का अधिकतम तापमान 47.0 डिग्री सेल्सियस जा पहुंचा। इससे पहले सन 2007 में 10 जून के दिन अधिकतम तापमान 45.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। वहीं गर्मी के कारण पंजाब, हरियाणा व उत्तर प्रदेश में

स्वाइन फ्लू , इनफ्लुएंजा यानी फ्लू वायरस के अपेक्षाकृत नए स्ट्रेन इनफ्लुएंजा वायरस A से होने वाला इनफेक्शन है. इस वायरस ने अब  हमला करने का वक्त बदल गया है, अब ये सर्दियों के बजाय गर्मियों में भी हमला बोलने लगा है. विशेषज्ञों का मानना है कि वायरस का स्ट्रेन बदलने पर भी यह नया बदलाव हो सकता है. अगर ऐसा हुआ तो यह खतरे की घंटी भी हो सकती है, क्योंकि मौजूदा दवाएं इसकी रोकथाम में पूरा असर नहीं करेंगी. हिमाचल ही नहीं बल्कि राज्य से बाहर की बड़ी प्रयोगशालाओं में भी स्ट्रेन बदलने के संदेह पर जांच चल रही