कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात के बाद पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने खुल कर कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि रेत खदानों की नीलामी किसी भी हालत में रद्द नहीं होगी. सरकार किसी भी राजनीतिक दबाव के आगे नहीं झुकेगी. सीएम ने कहा कि नीलामी पूरे पारदर्शी और निष्पक्ष ढंग से हुई है. इसकी निगरानी हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज और दो आईएएस अफसरों ने की, और कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह पर लगाए जा रहे आरोपों में कोई दम नहीं है. सीएम ने कहा कि केंद्र सरकार की कंपनी आईटीआई लिमिटेड की ओर

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आम आदमी पार्टी के विधायक सुखपाल सिंह खैरा पर सियासी हमला बोलते हुए कहा है कि खैरा को कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह के खिलाफ आरोपों की जांच कर रहे रिटायर्ड जस्ट्सि जे.एस. नारंग की ईमानदारी और निष्ठा पर शक करने का कोई अधिकार नहीं है. उन्होंने जस्टिस नारंग तथा मंत्री राणा गुरजीत सिंह के निकट संबंधों पर उठाए गए सभी सवालों को खारिज कर दिया, मुख्यमंत्री ने कहा कि जस्टिस नारंग एक पेशेवर व्यक्ति हैं, अगर कोई जज किसी के साथ रिश्तेदारी रखता है या पेशेवर ढंग से जुड़ा हुआ है तो इसका