वाशिंगटन अमेरिकी और उत्तर कोरिया के बीच तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है। नॉर्थ कोरिया द्वारा अमेरिकी द्वीप गुआम पर मिसाइल हमले की धमकी के बाद अब अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन का बयान आया है। उन्होंने कहा है कि अगर कोरिया हमारे किसी सहयोगी गुआम, जापान या दक्षिण कोरिया पर हमला करता है तो हम नॉर्थ कोरिया के खिलाफ बल प्रयोग के लिए तैयार हैं। गौरतलब है कि यह बयान ऐसे समय में सामने आया है, जब राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रमुख रणनीतिकार स्टीव बैनन ने कहा है कि उत्तर कोरिया की ओर से पेश खतरे और उसकी

अमेरिका की प्रतिनिधि सभा ने रूस, ईरान और उत्तर कोरिया पर प्रतिबंध लगाने के लिए मतदान किया. अमेरिका और उसके सहयोगियों को कमजोर करने वाले रूस, ईरान और उत्तर कोरिया के खतरनाक एवं युद्धकारी कदमों के खिलाफ नए प्रतिबंध लगाने के लिए भारी मतदान किया गया. अमेरिकी कांग्रेस के निचले सदन ने कल तीन के मुकाबले 419 मतों से रूस, ईरान और उत्तर कोरिया प्रतिबंध विधेयक को पारित किया. इस विधेयक का उद्देश्य अमेरिका के राष्ट्रपति के चुनाव में हस्तक्षेप करने और यूक्रेन एवं सीरिया में मास्को की सैन्य आक्रामकता के लिए उसे दंडित करना है. इसका मकसद ‘‘आतंकवाद को समर्थन

अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच तनाव कम होने की बजाय और बढ़ता ही जा रहा है. अमेरिका ने अपना दूसरा जंगीबेड़ा USS रोनाल्ड रीगन कोरियाई प्रायद्वीप की ओर बढ़ा दिया है. जो USS कार्ल विंसन के साथ सैन्य अभ्यास करेगा. हाल ही में उत्तर कोरिया की ओर से फिर से मिसाइल परीक्षण करने के बाद अमेरिका का यह कदम सामने आया है, अमेरिकी सुरक्षा अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी. USS रोनाल्ड रीगन के क्षेत्र में पहुंचने पर विमान सैन्याभ्साय करेगा, लेकिन इसका ध्यान मुख्य रूप से सुरक्षित लॉन्च पर होगा. अमेरिकी नौसेना के मुताबिक, 1,092 फुट के रीगन में 4,539 क्रू मेंबर

संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद ने मिसाइल टेस्ट करने पर एक मत से उत्तर कोरिया की आलोचना की है और इसके साथ ही नए प्रतिबंध लगाने की चेतावनी भी दी है. आपको बता दें कि रविवार को किए गए परिक्षण के बाद उत्तर कोरिया ने कहा था कि यह परिक्षण एक नए तरह के रॉकेट का था जो बड़े परमाणु वॉरहेड ले जाने में सक्षम है. 15 सदस्यीय सुरक्षा परिषद ने एक बयान जारी कर उत्तर कोरिया से आगे और मिसाइल टेस्ट न करने की मांग की है. टेस्ट में ये मिसाइल 2000 किलोमीटर की ऊंचाई तक गई और 700 किलोमीटर की