पकिस्तान में चीनी नागरिकों के लिए सख्त बिजनेस और वर्क वीजा नियम बनाने का निर्णय लिया गया है. गौरतलब है पाकिस्तान में चीनी नागरिकों की हत्या के बाद से दोनों देशों के बीच मनमुटाव शुरू हो गया है. वीजा को लेकर सख्त नियम बनाने का यह निर्णय इस्‍लामाबाद में गृहमंत्री चौधरी निसार अली खान की अध्‍यक्षता में उच्‍चस्‍तरीय बैठक के दौरान लिया गया. हाल ही में हुई शंघाई कॉरपोरेशन ऑर्गेनाइजेशन (SCO) समिट के दौरान दोनों देशे के बीच आई तल्खि देखने को मिली थी. इस समिट के दौरान चीन के राष्ट्रपति ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाब शरीफ को देखते हुए भी नजरअंदाज

अमेरिका के एक प्रमुख थिंक टैंक संस्था ने पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा संदेश जारी किया है. सीएसआईएस ने कहा है कि अमेरिका को पाकिस्तान को ये साफ कर देना चाहिए कि अगर वो तालिबान का समर्थन जारी रखता है तो उसे कोई आर्थिक मदद नहीं दी जाएगी. सीएसआईएस का मानना है कि पाकिस्तान तालिबान और हक्कानी नेटवर्क के लिए अब भी पनाहगाह बना हुआ है. और वह सहयोगी देश होने की बजाय खतरा अधिक है. थिंक टैंक ने इस बात पर जोर दिया कि ट्रंप प्रशासन को इस्लामाबाद को यह साफ करना चाहिए कि अगर वो तालिबान और हक्कानी नेटवर्क को समर्थन