अमृतसर में रोडरेज का मामला सामने आया है जहां के फतेहगढ़ चुरिया रोड पर कार सवारों ने बस ड्राइवर को गोली मार दी. जानकारी के मुताबिक अमृतसर से काहलों बस सर्विस की बस डेरा बाबा नानक जा रही थी, इसी दौरान स्विफ्ट कार पीछे से आ रही थी, रास्ता ना मिलने के चलते कार सवारों और बस ड्राइवर के बीच तकरार हो गई. यही नहीं कार सवार युवकों ने बस के आगे कार लगा दी और बस ड्राइवर को उतारकर उसकी पिटाई कर दी और उसे गोली मारकर फरार हो गए. गोली ड्राइवर के पेट में लगी. जिसके बाद उसे गंभीर

पटियाला नई दिल्‍ली में राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधी की समाधि राजघाट पर काम कर रहे कर्मचारियों की करतूत पर शायद बापू भी शर्मिंदा होंगे. राष्ट्रपिता की समाधि पर उन्हें नमन करने के लिए आने वाले विदेशी सैलानियों से वहां के कर्मचारी ही अवैध वसूली कर रहे थे. वसूली भी जूतों के रखरखाव के नाम पर हो रही थी. पंजाब के पटियाला की रहने वाली सातवीं कक्षा की छात्रा हश्मिता ने इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा. इसके बाद राजघाट पर तैनात सौ से अधिक कर्मचारियों को हटा दिया गया है. इसके साथ हही प्रधानमंत्री कार्यालय ने मामले की जांच भी शुरू

बठिंडा के भागीवांदर गांव में करीब डेढ़ महीने पहले हुए हत्या के मामले में पुलिस के हाथ अबतक खाली है, जिससे परिजनों ने पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए हैं। परिवारवालों ने कार्रवाई नहीं होने पर सामूहिक आत्मदाह की चेतावनी दी है। उनका कहना है कि अगर पुलिस ने दो दिन में दोषियों को गिरफ्तार नहीं किया, तो पहले तलवंडी साबो चौक पर धरना प्रदर्शन किया जाएगा। इसके बाद भी अगर प्रशासन हरकत में नहीं आया तो उनका पूरा परिवार थाने में जाकर सामूहिक आत्मदाह करेगा। गौरतलब है कि आठ जून को मोनू अरोड़ा की तेजधार हथियारों से हत्या

अमृतसर के पुतलीघर में एक प्लाट के कब्जे को लेकर बीती 18 जून को हुए झगड़े में घायल हुए पीसीआर पुलिसकर्मी के परिवार ने पुलिस पर कार्रवाई ना करने का आरोप लगाया है। घायल हुए पुलिस कर्मी राकेश कुमार की पत्नी मोनिका बावा ने कहा है कि पुलिस हमला करने वाले पूर्व पार्षद सुरेंद्र चौधरी और उनके साथियों से मिली हुई है। पुलिस को जानकारी होते हुए भी पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस ने कार्रवाई नहीं कि तो वे पुलिस कमिश्नर के कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन करेंगी। वहीं, पुलिस के मुताबिक आरोपी पार्षद

बलाचौर-गढ़शंकर रोड पर स्थित सैंटीनल पब्लिक स्कूल की 9वीं में पढ़ती छात्रा का शव नजदीकी गांव महितपुर बिस्त दोआब नहर से मिलने के कारण इलाके में दहशत और शोक का माहौल बन गया। बाद दोपहर करीब साढ़े 3 बजे महितपुर गांव के नजदीक रहते सद्दाम हुसैन व सोनू ने बिस्त दोआब नहर में पीरों के स्थान पर श्मशानघाट के पास एक लाश पानी में तैरती हुई देखी, जिसका सिर नजर आ रहा था। जानकारी अनुसार दो लड़कियों ने शुक्रवार देर शाम बिस्त दोआब नहर में छलांग लगा दी । इस हादसे में गांव सुधा माजरा की मनप्रीत कौर की मौत हो

श्री मुक्तसर साहिब के फतेहपुर मनिया गांव में किसान ने जहरीला पदार्थ पीकर खुदकुशी कर ली। कीटनाशक पीने के बाद किसान को अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया, जहां देर शाम किसान ने दम तोड़ दिया। मरने से पहले किसान ने पुलिस को आढ़ती और मुनीम के खिलाफ तंग करने का बयान दिया, जिसके आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी है। उधर, मेहराज में भी एक किसान ने कर्ज से परेशान होकर खुदकुशी की है।  

लुधियाना में पखोवाल रोड स्थित शहीद भगत सिंह नगर में दिन दहाड़े तीन लुटेरों ने एक घर में लूट की वारदात को अंजाम दिया। वारदात के समय घर पर एक बुजुर्ग महिला मौजूद थी। लुटेरों ने चाकू की नोंक पर पूरे घर पर हाथ साफ किया और नगदी और जेवर लेकर फारर हो गए। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू कर दी। पुलिस के मुताबिक लुटेरे घर में लगे सीसीटीवी की डीवीआर भी अपने साथ ले गए।

तरनतारन के माड़ी कंबोके गांव में जमीन के रास्ते को लेकर हुए विवाद में एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। इनमें से दो की हालत नाजुक बनी हुई है। घायलों को अमृतसर रेफर कर दिया गया है। दरअसल, माड़ी कंबोके गांव के सुखबीर सिंह के गांव के ही एक व्यक्ति से जमीन के रास्ते को लेकर विवाद चल रहा था। इसी के चलते सुखचैन सिंह ने अपने 30 से 40 साथियों के साथ मिलकर सुखबीर सिंह और उसके साथियों पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी। हमले में सुखबीर सिंह की मौके पर ही

फिरोजपुर के पाल चक गांव में पंचायत में फायरिंग करने के मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को हथियार समेत गिरफ्तार कर लिया है। पाल चक गांव में आरोपियों ने पंचायत के दौरान फायरिंग की थी जिसमें एक ही परिवार के दो लोगों की गोली लगने से मौत हो गई थी और दो लोग घायल हुए थे। इस मामले में पुलिस ने 17 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

होशियारपुर मंडी बोर्ड के जिला मंडी ऑफिसर और मंडी बोर्ड के सेक्रेटरी अन्य अधिकारियों के साथ  पर शराब पीते हुए कैमरे में कैद हो गए. सभी अधिकारियों ने ड्यूटी के वक्त एक होटल में शराब की महफिल जमाई हुई थी, जब डीएमओ से ड्यूटी के दौरान शराब पीने पर सवाल किया गया तो वह टाल मटोल कर वहां से अधिकारियों के संग निकल गए. वहीं जब मंडी बोर्ड ऑफिस का दौरा किया गया तो वहां सिर्फ लेडी स्टाफ मौजूद मिला. महिला कर्मचारियों का कहना है कि. डीएमओ साहब ने मीटिंग बुलाई थी.कई कर्मचारी मीटिंग में ही गए हैं.