कश्मीर से मुंबई तक चलने वाले इंटर स्टेट ड्रग रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है। पुलिस ने लाखों रुपये की चरस और इसकी तस्करी करने वाले पांच तस्करों को पकड़ लिया है। कश्मीर के बिजबिहाड़ा से लाई गई यह खेप मुंबई जाने वाली थी। इसको पुलिस ने शहर के त्रिकुटा नगर में पकड़ लिया। पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि पिछले काफी समय से यह लोग सक्रिय थे। इसी तरह से पुलिस ने नगरोटा में भी तीन लोगों को चरस के साथ पकड़ा है। एक अन्य मामले में नशीली दवाई के साथ एक को दबोचा है। पुलिस की ओर

कश्मीर में जारी हिंसा के बीच सेना ने आतंकियों के खिलाफ आपरेशन तेज कर दिया है। उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले में रविवार शाम सेना और आतंकियों में मुठभेड़ शुरू हुई। इस मुठभेड़ में एक जवान के घायल होने की खबर है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक बारामुला जिले के चंदूसा गांव में सेना को आतंकियों के छिपे होने की खबर मिली। जिस पर सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस के स्पेशल आपरेशन ग्रुप ने इलाके में तलाशी अभियान चलाया। इसी दौरान एक इमारत में छिपे आतंकियों ने जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी। जवानों ने भी मोर्चा संभालते हुए आतंकियों को मुंहतोड़

कश्मीर घाटी में आतंकवाद के लिए हो रही फंडिंग की जांच के मामले में एनआईए (राष्ट्रीय जांच एजेंसी) हुर्रियत के कट्टरपंथी धड़े के नेता सैयद अली शाह गिलानी के बडे़ बेटे से पूछताछ करेगी। एनआईए की ओर से गिलानी के बड़े बेटे नईम गिलानी को समन जारी किया गया है। नईम को एनआईए ने नईम को श्रीनगर स्थित जांच एजेंसी के सब कार्यालय में पेश होकर बयान दर्ज कराने के लिए कहा गया है। कश्मीर घाटी में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए पाकिस्तान सहित कई देशों से फंडिंग किए जाने का खुलासा हुआ था। इसमें हवाला की राशि कश्मीर के

जम्मू-कटड़ा रेलवे ट्रैक पर विद्युत इंजन ट्रेन चलाने के लिए हरी झंडी मिली गई है। कमिश्नर रेलवे सेफ्टी (सीआरएस) एसके पाठक ने सोमवार को 78 किलोमीटर ट्रैक के निरीक्षण के बाद कहा कि ट्रैक सुरक्षित और अद्भुत है। सुरक्षा की कसौटी पर ट्रैक पूरी तरह से खरा उतरा है। अब विद्युत इंजन ट्रेन चलाने का फैसला जब चाहे लिया जा सकता है। औपचारिक रूप से वे मंगलवार को अपनी रिपोर्ट उत्तरी रेलवे को सौंपेंगे। कहा कि बिजली की कमी के कारण शुरू में एक या दो ट्रेन ही चलाई जा सकेंगी, लेकिन, अपने दो पावर स्टेशन बनने के बाद सभी ट्रेेनें

जीएसटी पारित करने में विपक्ष शासित राज्य पहल कर रहे हैं लेकिन भाजपा शासित जम्मू कश्मीर में ही इसके पारित होने पर संशय बरकरार है। पीडीपी ने जीएसटी के वर्तमान स्वरुप को खारिज कर दिया है। बदलाव के साथ इसे रियासत में लागू करने पर सहमति की कोशिश हो रही है। अगर यह कोशिश सफल होती है तब भी जीएसटी का रियासत विधानसभा में जनवरी से पहले पारित होना संभव नहीं है। इस स्थिति में जीएसटी के कानून में रियासत को कोई योगदान नहीं दे पाएगा।

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान के साथ दोस्ती की हरसंभव कोशिश की है। पाक को भी दोस्ती का जवाब दोस्ती से देना होगा। इसके अलावा कोई चारा नहीं है। जिस प्रकार जनरल परवेज मुशर्रफ हां-ना करते-करते वार्ता की मेज पर आए उसी प्रकार पाक को भी आना होगा। यदि पाकिस्तान को बातचीत में विश्वास है तो उसे भी ऐसी कोशिश करनी होगी। वह यहां उजाला योजना के शुभारंभ के मौके पर बोल रही थीं। महबूबा ने कहा कि दिल्ली में मोदी की सबसे ताकतवर सरकार है। यदि अभी कश्मीर समस्या का समाधान नहीं

कश्मीर में रविवार को भी हिंसा की छिटपुट घटनाएं हुईं। ज्यादातर इलाकों में शांति रहने की वजह से सोमवार से पुलवामा और श्रीनगर के एमआर गंज व नौहट्टा थाना क्षेत्र को छोड़कर घाटी के सभी इलाकों से पाबंदियां हटा ली गईं हैं। यह फैसला रविवार देर रात किया गया। अनंतनाग के संगम व आशाजीपोरा तथा शोपियां के नाडीगाम में सुरक्षा बलों पर पथराव की घटनाएं हुईं। संगम में पथराव के बाद आंसू गैस के गोले दागे गए। इस दौरान 11 लोग घायल हो गए। इनमें से कुछ गंभीर घायलों को इलाज के लिए श्रीनगर भेजा गया है। आशाजीपोरा में

पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर में शतंरज खेलने से मना कर दिया है। रियासत की मेजबानी में पहली मर्तबा आयोजित होने जा रही साउथ एशियन एमेच्योर चेस चैंपियनशिप में कश्मीर हिंसा का हवाला देकर पाकिस्तान ने अपने खिलाड़ियों को एनओसी देने से साफ इनकार कर दिया है। सार्क समूह के सदस्य आठ मुल्कों की शिरकत वाली चैंपियनशिप पहली बार जम्मू में होगी। यह चैंपियनशिप एक से छह सितंबर तक चलेगी। इसमें भारत के अलावा पाकिस्तान, भूटान, नेपाल, अफगानिस्तान, श्रीलंका, मालदीव और बांग्लादेश को आमंत्रित किया गया था। चैंपियनशिप के लिए आल इंडिया चेस फेडरेशन की ओर से आनलाइन एंट्री मांगी गई। पर कश्मीर हिंसा

कश्मीर में बिगड़े हालात के चलते रियासत की सरकार अब अपनी सक्रियता जम्मू से दिखाने में जुटी हैं ताकि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर संदेश दिया जा सके। कश्मीर में अलगाववादियों के बंद के आह्वान के अलावा कर्फ्यू की वजह से सरकार जमीन पर पिछले कई दिनों से कम नजर आ रही है। कश्मीर में ज्यादातर बयानबाजी की सियासत हो रही थी। रियासती सरकार ने कश्मीर में हालात में बदलाव न आने के चलते अब अपनी रणनीति में बदलाव के तहत जम्मू में सक्रियता को बढ़ा दिया है। रियासत के लिए केंद्रीय प्रायोजित योजनाओं को भी जम्मू और कश्मीर संभाग में एक साथ लांच न

कश्मीर हिंसा के दौरान पेलेट गन की जद में आकर घायल हुई इंशा का मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में जाकर कुशलक्षेम पूछा। मुलाकात के बाद महबूबा ने कहा कि इंशा की आंखें फिर से दुनिया देख सकेंगी। जरूरत पड़ी तो वे इसके लिए अपनी आंखें भी देने को तैयार हैं। महबूबा ने कहा कि इंशा की आंखों की रोशनी लौटाने के लिए स्थानीय अस्पताल आखिरी विकल्प नहीं है। आंखों को ठीक करना हो या फिर आंखें ट्रांसप्लांट करने की स्थिति बने, जम्मू-कश्मीर सरकार देश ही नहीं इंशा के इलाज के लिए विदेशों तक के विकल्प आजमाएगी।