कश्मीर घाटी में ईद के दिन भी हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही। मंगलवार को ईद की नमाज के बाद हुई हिंसा में दो युवकों की मौत हो गई, जबकि दर्जनों लोग घायल हो गए हैं। घाटी के सभी 10 जिलों में कर्फ्यू जारी है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा जिले में ईद की नमाज के बाद सैकड़ों की संख्या में युवा सड़कों पर उतर आए। इसी बीच उनमें से कुछ युवाओं ने देश विरोधी नारे लगाते हुए सुरक्षा बलों पर पथराव शुरू कर दिया। सुरक्षा बलों को हालात नियंत्रण में करने के लिए आंसू गैस

कई साल में पहली बार मंगलवार को अधिकारियों ने कश्मीर घाटी के सभी 10 जिलों में ईद के मौके पर कर्फ्यू लगा दिया। घाटी में निगरानी के लिए हेलीकॉप्टरों और ड्रोनों को तैनात किया गया है। इस बीच बांदीपोरा जिले में प्रदर्शन के दौरान सुरक्षा बलों के साथ झड़प में एक युवक की मौत हो गई। अलगाववादियों की ओर से संयुक्त राष्ट्र के स्थानीय अधिकारियों तक मार्च निकालने के आहवान के मद्देनजर बड़ी संख्या में लोगों के जुटने पर प्रतिबंध लगाया गया है। यह मार्च संयुक्त राष्ट्र महासभा के 71वें सत्र की शुरूआत के दिन ही पड़ रहा है। महासभा के

पंजाब में युवाओं के लिए अलग मैनिफेस्टो जारी करने के बाद आम आदमी पार्टी ने किसानों के लिए भी अलग से 31 पॉइंट का मैनिफेस्टो जारी कर दिया है। आम आदमी पार्टी के संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा बाघापुराना रैली में किसानों के लिए चुनावी मैनिफेस्टो जारी किया गया। आप ने घोषणा पत्र में कई लोक लुभावने वादे किए हैं। इस मौके पर केजरीवाल ने कहा कि मैनिफेस्टो किसानों से पूछकर बनाया गया है। आप की रैली में पूरे पंजाब से 2 लाख से ज़्यादा किसानों ने हिसा लिया। किसानों से खचाखच भरी रैली में अरविंद केजरीवाल के साथ-साथ

जम्मू संभाग के पुंछ शहर में सुबह आतंकियों ने हमला कर दिया। सुरक्षा बलों ने देर शाम तीनों आतंकी मार गिराए। इस दौरान आतंकियों से लोहा लेते एक पुलिसकर्मी शहीद हो गया। पांच अन्य लोग भी घायल हुए हैं। आपरेशन में मदद के लिए 9 पैरा बटालियन को लगाया गया है। उधर, एलओसी पर कश्मीर संभाग में नौगाम, गुरेज और टंगधार सेक्टर में घुसपैठ की कोशिशों को नाकाम बनाया गया। नौगाम में चार विदेशी आतंकी मार गिराए गए। इनके पास से चार एके 47 रायफल और भारी मात्रा में हथियार तथा गोला बारूद बरामद किए गए हैं।

घाटी में हिंसा के दो महीनों के भीतर दक्षिण कश्मीर से 80 युवा लापता हैं। खुफिया एजेंसियों ने इन युवाओं के आतंकी तंजीमों में शामिल होने की खबर है। लापता युवाओं में से ज्यादातर के हिजबुल मुजाहिदीन और कुछ के लश्कर-ए-तैयबा में शामिल होने की सूचना है। पुलवामा, कुलगाम, शोपियां और अनंतनाग जिलों में फैले दक्षिण कश्मीर में हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद से सबसे ज्यादा हिंसक वारदातें हुई हैं। इसी हिंसा के दौरान एक के बाद एक कर 80 युवा लापता हो गए। ज्यादातर युवा पुलवामा जिले से हैं।

दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा जिले के तहाब इलाके में आतंकियों ने शुक्रवार की देर रात सीआरपीएफ के कैंप पर हमला किया। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक शुक्रवार की रात अचानक सीआरपीएफ की 182वीं बटालियन के कैंप पर आतंकियों ने फायरिंग करना शुरू कर दिया। पहले से सतर्क जवानों ने तुरंत मोर्चा संभालते हुए आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब दिया। करीब 20 मिनट तक दोनों ओर से फायरिंग जारी रही। इस हमले में किसी भी जवान के घायल होने की खबर नहीं है। उसके बाद आतंकी मौके से फरार हो गए। सीआरपीएफ और जम्मू-कश्मीर पुलिस के जवानों ने पूरे इलाके को घेर कर

पुंछ में आतंकियों के निशाने पर सेना के 93 ब्रिगेड का मुख्यालय था। आतंकियों ने जिस निर्माणाधीन मिनी सचिवालय के पास से फायरिंग शुरू की वह सेना के 93 बिग्रेड मुख्यालय के बिल्कुल करीब है। आतंकियों के हमले में एक कांस्टेबल की मौत हो गई और पांच लोग घायल हुए हैं। सुरक्षा बलों और सेना ने तीनों आतंकियों को ढेर कर सैन्य शिविर पर हमले की साजिश को विफल कर दिया। इस हमले को लश्कर-ए तैयबा के फिदायीन दस्ते की करतूत माना जा रहा है। सेना के सूत्रों के मुताबिक कश्मीर में जारी हिंसा के बीच पाकिस्तान की ओर से जम्मू संभाग

जम्मू कश्मीर के पुंछ में आंतकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ एक बार फिर शुरू हो गई है। देर शाम अंधेरा होने के कारण सुरक्षाबलों ने आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन रोक दिया था जिसे सुबह होते ही फिर जारी कर दिया गया। इसी के साथ ही मुठभेड़ में मरने वाले आतंकियों संख्या 8 हो गई है। इनमें से चार आतंकी पुंछ में ही मारे गए हैं, जबकि बाकी नौगाम, गुरेज और टंगधार सेक्टर में हुई मुठभेड़ में ढेर किए गए हैं। वहीं एक हेड कांस्टेबल भी मुठभेड़ में शहीद हुए हैं। ऑपरेशन में मदद के लिए 9 पैरा बटालियन को लगाया

जहां एक ओर जम्मू कश्मीर में आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद से युवाओं रोष बढ़ गया है, वे लोग देशभक्ति की बात सुनना तो दूर बस घाटी को आग लगाने में जुटे हैं। वहीं उधमपुर के इस युवा ने कश्मीर का नाम रोशन कर दिया है। जी हां, नबील वानी ने बीएसएफ में टॉप करके न केवल अपने परिवार का नाम ऊंचा किया है, बल्कि कश्मीर के युवाओं को प्रेरणा भी दी है। वानी ने हाल ही में असिसटेंट कमांडेंट का इग्जाम पास कर लिया है। पिछले दो महीने से घाटी युवाओं के रोष में जल रही है, पथराव, आगजनी,

रक्षा मंत्री मनोहर परिकर ने जम्मू-कश्मीर में अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती को घुसपैठ रोकने से प्रेरित करार दिया है। वासको शहर में इंडियन कोस्ट गार्ड शिप सारथी की कमीशनिंग के समारोह के बाद मीडिया से बातचीत में परिकर ने कहा सेना का काम कायदा कानून की समस्या देखना नहीं है। जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों की अतिरिक्त तैनाती केवल घुसपैठ को रोकने के लिए की जा रही है। आंतरिक मामलों में सेना तब तक दखल नहीं देती जब तक स्थानीय प्रशासन अनुरोध न करे। समारोह में मौजूद गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी सेना की तैनाती बढ़ाने की वजह घुसपैठ रोकना बताई।