चंडीगढ़ का हाईप्रोफाइल मामला अभी शांत नहीं हुआ है, लेकिन ठीक उस जैसा ही एक और मामला साइबर सिटी गुरुग्राम से सामने आया है। यहां स्कूटी सवार युवती का कार सवार युवकों ने पीछा किया और उसे रोकने की कोशिश की। मामला सोमवार रात करीब 12 बजे के आस-पास का है। बताया जा रहा है कि युवती ऑफिस से घर लौट रही थी। इसी दौरान सेक्टर-18 इलाके में कार सवार दो युवकों ने युवती को रुकने का इशारा किया, लेकिन युवती नहीं रुकी और आगे बढ़ गई। आरोपियों ने बावजूद इसके उसका पीछा नहीं छोड़ा और करीब चार किलोमीटर तक

एक व्यक्ति थाने से छूटकर आया और आते ही अपनी पत्नी को गोली मार दी। हैरानी की बात है कि लड़की के सास-ससुर पीछे से बोल रहे थे मार दो-मार दो। घटना हरियाणा के सोनीपत की है। शनिवार रात गांव मातंड निवासी धर्मेंद्र ने अपनी पत्नी वैष्णो देवी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। महिला के भाई रोहतक के गांव बनियानी निवासी नरेश ने पुलिस को बताया कि उसकी बहन की उसके ससुराल वालों ने मिलकर हत्या की है। उसने पुलिस को बताया कि 14 साल पहले उसकी बहन की शादी धर्मेंद्र के साथ हुई थी। उसके दो बच्चे हैं। शादी

खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के एक इंस्पेक्टर ने शहर के एक डिपो होल्डर को थप्पड़ जड़ दिया। डिपो होल्डर ने थाना शहर पुलिस में इंस्पेक्टर के खिलाफ शिकायत दी है और उस पर रक्षाबंधन के दिन 25 हजार रुपये की रिश्वत मांगने के आरोप लगाए हैं। आरोप है कि इंस्पेक्टर ने त्योहार के दिन उसको मशीन समेत कार्यालय में बुला लिया। वह उनके कहने पर मशीन भी ले आया। उसके मेज पर मशीन रखते ही थप्पड़ जड़ दिए। थाना शहर पुलिस ने शिकायत लेकर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। इंस्पेक्टर ने पैसे मांगने के आरोपों को निराधार बताया है। डिपो होल्डर

एक तरफ गोरक्षकों की गुंडागर्दी पर प्रधानमंत्री दो बार चिंता जाहिर कर चुके हैं तो दूसरी ओर उन पर नकेल कसने की जगह हरियाणा और उत्‍तराखंड सरकार उन्‍हें लीगल करने जा रही है. दोनों राज्‍यों में गोसेवा आयोग हैं. इसी के माध्‍यम से सरकार अब मान्‍यता प्राप्‍त गोरक्षक बनाने के लिए काम कर रही है. हरियाणा गो सेवा आयोग के चेयरमैन भानीराम मंगला ने बताया कि हर जिले से गोरक्षक बनने के लिए आवेदन मांगे गए थे. उनकी पुलिस वेरीफिकेशन होनी थी. यह काम चल रहा है. पुलिस तस्‍दीक के बाद आवेदनकर्ताओं को सरकार आईकार्ड जारी करेगी. मंगला ने बताया कि नौ

रतिया के अलीका गांव के सरकारी स्कूल पर छात्रों ने ताला जड़कर सरकार और शिक्षा विभाग के खिलाफ प्रदर्शन किया। दरअसल, सरकारी स्कूल में टीचर्स की भारी कमी है जिससे छात्रों की पढ़ाई बाधित हो रही है। प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने चेतावनी दी है कि जब तक उनके स्कूल में टीचर्स को नियुक्त नहीं किया जाता वे स्कूल का ताला नहीं खोलेंगे।

बराड़ा कई राज्यों में चोटी कटने की अफवाह के चलते लोग सहमे हुए है। इसी प्रकार की अफवाहें अब बराड़ा के आस-पास ग्रामीण इलाकों में सुनने में आ रही है। हलांकि एरिया में किसी भी महिला की चोटी काटे जाने की कोई बात सामने नहीं आई है लेकिन सब ओर फैल रही इस चोटी काटने की अफवाह से यहां के लोग भी सहमे हुए हैं। कई घरों ने तो अपने घरों के बाहर इससे बचने के लिए ताबीज, नीम की टहनी आदि लगा कर सुरक्षा कर रहे हैं। सिहंपुरा मोहल्ले में कुछ घरों ने चोटी कटने की अफवाह के चलते अपने घरों

फतेहाबाद यहां भाजपा नेता और नगर परिषद प्रधान दर्शन नागपाल के खिलाफ एक एंबुलेंस को रोकने के कारण मामला दर्ज किया गया है। एंबुलेंस का रास्ता रा‍ेकने क कारण मरीज को समय पर इलाज नहीं मिल पाने से उसकी मौत हो गई। एंबुलेंस से नागपाल की गाड़ी में हल्‍की टक्‍कर लग गई थी। आराेप है कि इससे गुस्‍साए नागपाल ने एंबुलेंस का रास्‍ता आधे घंटे तक रोके रखा। इस मामले में मरीज के परिजनों ने पुलिस को नगर परिषद प्रधान व दो अन्य लोगों के खिलाफ शिकायत दी है। इसके बाद पुलिस ने शिकायत दर्ज की। दूसरी ओर, नागपाल ने आरोप को

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भले ही रक्षा बंधन के त्योहार के बार में कुछ भी नहीं जानते हों, लेकिन हरियाणा के एक मुस्लिम बहुल गांव की महिलाओं ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को 1,001 राखियां भेजी हैं. एक एनजीओ ने इस गांव का नाम प्रतीकात्मक रूप से ट्रंप के नाम पर रखा है. गांव को गोद लेने वाले एनजीओ ने कहा कि पिछड़े नूंह क्षेत्र के मरोरा गांव के लोगों का यह कदम भारत और अमेरिका के बीच रिश्तों के और मजबूत होने की भावना को व्यक्त करता है. एनजीओ की उपाध्यक्ष मोनिका जैन ने कहा कि गांव की छात्राओं ने

स्कूलों-कालेजों में अध्यापकों व छात्र-छात्राओं द्वारा कक्षा में मोबाइल फोन ले कर जाने और समय-समय पर कभी अïध्यापक तो कभी किसी छात्र के मोबाइल की बजने वाली घंटी से अध्यापकों और छात्रों दोनों का ही समय नष्ट होता है और पढ़ाई की हानि होती है। इसी के दृष्टिगत कुछ समय पूर्व हिमाचल सरकार ने अपनी शिक्षा संस्थाओं में मोबाइल के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी और अब हरियाणा स्कूल शिक्षा निदेशालय ने भी राज्य के सरकारी स्कूलों में अध्यापकों तथा स्कूल के प्रमुखों के भी कक्षाओं में मोबाइल लेकर जाने पर रोक लगा दी है। उल्लेखनीय है कि हरियाणा