गुरुग्राम हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल गुरुग्राम में भारतीय चार्टर्ड अकाउंटेंट संस्थान द्वारा आयोजित चार्टर्ड एकाउंटेंट्स दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे. इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जीएसटी के लागू होने से देशभर में 10 लाख रोजगार पैदा होंगे. उन्होंने देश के चार्टर्ड एकाउंटेंट्स से अपील करते हुए कहा कि आने वाले तीन महीनों में आप लोगों को जीएसटी से संबंधित शंकाओं को दूर करना है और देश को आगे ले जाना है. वहीं, इस मौके पर हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि जीएसटी एक क्रांतिकारी कदम है जो कर व्यवस्था में सुधार लाएगा. उन्होंने कहा कि इसे

मानसून वक्त पर है और पूरे उत्तर भारत में जमकर बारिश हो रही है। वहीं, पहाड़ी इलाकों में भी बरसात का दौर जारी है, जिसके चलते यमुना नदी का जल स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है। ऐसे में करनाल प्रशासन बाढ़ जैसी स्थिति से निपटने के लिए पहले से ही अलर्ट हो गया है। जिला डीसी मनदीप सिंह बराड़ ने बताया कि फिलहाल यमुना का जल स्तर सामान्य है, लेकिन पहाड़ी इलाकों में तेज बारिश का असर जल स्तर पर पड़ेगा और इसके नजदीक बसे गांवों में बाढ़ की स्थिति पैदा हो सकती है। ऐसे में हालात को काबू रखने

रेवाड़ी पहुंचे इनेलो नेता अभय चौटाला ने एसवाईएल के मुद्दे पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि इनेलो हर हाल में एसवाईएल का पानी किसानों को दिला कर रहेगी। इस मौके पर अभय चौटाला ने कांग्रेस पर निशाना साधा। अभय चौटाला ने कहा है कि कांग्रेस पांच धड़ों में बंटा चुकी है और हुड्डा सिर्फ किसान पंचायत के नाम पर इलाके के लोगों को गुमराह कर राजनीतिक जगह तलाश रहे हैं।

हरियाणा में सीएम फ्लाइंग की छापेमारी के बाद अब दूसरे विभाग भी हरकत में आ गए हैं। यमुनानगर में कृषि विभाग ने गुप्त सूचना के आधार पर सांधली गांव में छापेमारी की। बताया जा रहा है कि, यहां अवैध रूप से रखी गई यूरिया के तीन सौ से ज्यादा बैग बरामद किए गए। कृषि विभाग ने सभी यूरिया बैग को अपने कब्जे में ले लिया है और गोदाम के मालिक के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है।

गुरुग्राम के एमजी रोड पर ड्रंक एंड ड्राइव के आरोप में चालान करने पर नशे में धुत युवक ने जमकर हंगामा किया।  खुद को पूर्व मंत्री का रिश्तेदार बताकर रोब झाड़ने की कोशिश की, सिर्फ यही नहीं आरोपी ने पुलिसकर्मियों के साथ अभद्र भाषा का भी इस्तेमाल किया। हैरानी की बात तो ये है कि, आरोपी ने खुद से ही अपने सिर में चोट मारी और फिर पुलिस कर्मियों पर मारपीट का आरोप लगाने लगा। इतना सब होने के बाद पुलिस के आला अधिकारियों के आदेश पर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया। फिलहाल, मामले में डीसीपी ईस्ट दीपक सहारन ने

हरियाणा के किसान अपनी मांगों को लेकर आज चंडीगढ़ में सीएम मनोहर लाल से मिले। इसमें किसान संगठनों ने मीडिया की मध्यस्थता की मांग और किसानों की कर्जमाफी के अलावा स्वामीनाथन रिपोर्ट, पेंशन समेत अन्य मांगों पर बातचीत की। इस बैठक में सीएम के अलावा कृषि मंत्री ओपी धनखड़ बी मौजूद थे, लेकिनये बैठक बेनतीजा रही।

मानसून की पहली बारिश ने सीएम सिटी करनाल में बाढ़ जैसे हालात पैदा कर दिए हैं। शाम नगर समेत कई इलाके पानी में डूब गए। इससे हजारों लोग परेशान हैं, लोगों के घर और दुकान चार-चार फुट पानी में डूब गए। कचरे के कारण सीवरेज लाइनें जाम हो गर्इं, जिससे गंदा पानी लोगों के मकानों में घुसकर मुसीबत बन गया। अतिक्रमण की वजह से भी पानी की निकासी के सारे रास्ते बंद हो गए। एक दिन की बारिश ने शहर की रंगत बिगाड़  दी। पानी रुकने के कारण लोगों में बीमारियां फैलने का खतरा बना हुआ है, अभी तक स्थानीय

पानीपत में ज्वैलर्स की दुकान पर लूट की कोशिश का मामला सामने आया है। ये कोशिश उस वक्त नाकाम हो गई, जब पिस्टल लेकर धमका रहे दो बदमाशों पर ज्वैलर्स बुरी तरह टूट पड़े। दरअसल, GST के विरोध में कई दिनों से सर्राफा बाजार बंद था। इसी बीच सिर्फ रॉयल ज्वैलर्स की दुकान खुली थी, तभी दो लोग दुकान में दाखिल हुए और मालिक को पिस्टल दिखाकर धमकाने लगे। इस दौरान दुकान मालिक ने चालाकी दिखाई और मौका पाकर दोनों ने लुटेरों पर ही हमला बोल दिया और उनकी पिस्टल छीन ली। हालांकि, बदमाश अपनी पिस्टल और बाइक वहीं छोड़कर भाग गए।

गुरुग्राम के गौरी शंकर मंदिर पर कल आसमानी बिजली का प्रकोप देखने को मिला। यहां मंदिर पर आसमानी बिजली गिरने से मंदिर का गुंबद पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। गनीमित ये रही कि इस हादसे में कोई हताहात नहीं हुआ, जिस वक्त आसमानी बिजली गिरकर ये हादसा हुआ उस वक्त मंदिर में पुजारी का परिवार मौजूद था। पुजारी ने बताया बिजली गिरने के दौरान मंदरी की पूरी बिजली बंद हो गई थी। जब उन्होंने बाहर जाकर देखा तो उन्हें पता चला कि, बिजली गिरने से गुंबद क्षतिग्रस्त हुआ है।  

अंबाला नगर निगम में एक बार फिर गड़बड़ी का मामला सामने आया है. इस बार मामला शहर में सात मोबाइल टावर की अनुमति को लेकर है. दरअसल, किसी बड़े अधिकारी की अनुमति के बिना ही इन टावरों को लगाने का काम एक निजी कंपनी को दे दिया गया. हैरानी की बात ये है कि एक एक्साइज टेक्सिशन ऑफिसर ने टावर लगाने के आदेश जारी किए थे. वहीं, जब मामला मीडिया के सामने आया तो आनन फानन में नगर निगम ने टावर लगाने का आर्डर वापिस ले लिया और मामले में लीतापोती की जा रही है. दरअसल, इस गड़बड़ी का खुलासा उस वक्त हुआ