यूपी: मुजफ्फरनगर रेल हादसे में 23 लोगों की मौत, 100 से ज्यादा घायल

यूपी के मुजफ्फरनगर में शनिवार शाम हुए भीषण ट्रेन हादसे में मरने वालों की संख्या 23 हो गई है. हादसे में 97 से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं. इनमें से 26 लोग गंभीर रूप से जख्मी हैं, वहीं बाकी 71 को हल्की चोटें आई हैं. फिलहाल, पुलिस-प्रशासन का अमला मौके पर मौजूद है. राहत-बचाव का काम जारी है.

इस रेल हादसे के पीछे बड़ी लापरवाही की भी बात सामने आ रही है. घटनास्थल के पास पटरियां कटी हुई हैं और वहां से हथौड़े, रिंच और अन्य औजार मिले हैं. बताया जा रहा है कि मुजफ्फरनगर के खतौली में ट्रैक पर मरम्मत का काम चल रहा था. ऐसे में फिर सवाल उठ रहा है कि ट्रेन को उक्त ट्रैक पर जाने क्यों दिया गया?

ये हादसा शनिवार शाम 5 बजकर 46 मिनट पर हुआ. ट्रेन संख्या 18477 कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस पुरी से हरिद्वार की तरफ जा रही थी. इसी दौरान मुजफ्फरनगर के खतौली रेलवे स्टेशन के पास ट्रेन के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए. पटरी से उतरे डिब्बे ट्रैक के पास बने मकानों और स्कूल इमारत में घुस गए.

डिब्बे काटकर निकाले गए यात्री

पटरी से उतरने के बाद रेल के कई कोच एक दूसरे में घुस गए. कई डिब्बे एक-दूसरे के ऊपर चढ़ गए. इन डिब्बों में फंसे यात्रियों को निकालने के लिए गैस कटर से डिब्बे काटे गए. वहीं डिब्बों को हटाने के लिए क्रेन का इस्तेमाल किया गया. घटना के बाद मेरठ, अंबाला, सहारनपुर ट्रैक को बंद कर दिया गया है.

मौके पर एटीएस टीम

हादसे के बाद शनिवार रात ही यूपी एटीएस की टीम घटनास्थल पर पहुंच गई थी. एटीएस सूत्रों के मुताबिक, प्रथम दृष्टया हादसे के पीछे टेरर एंगल नजर नहीं आ रहा है. हालांकि, अभी मामले की जांच की जा रही है.

ट्रैक मरम्मत का काम जारी

एक तरफ जहां राहत-बचाव का काम जारी है, वहीं दूसरी ओर रेल ट्रैक की मरम्मत भी की जा रही है. बताया जा रहा है कि करीब 24 घंटों में ट्रैक सुचारू रूप से चालू होने की उम्मीद है.

यात्रियों को हरिद्वार पहुंचाया गया

ट्रेन हादसे के बाद मौके पर पहुंचे बचाव दल ने पहले डिब्बों को हटाया. साथ ही डिब्बों में फंसे लोगों को भी निकालने का काम किया गया. इसके अलावा सुरक्षति डिब्बों समेत दूसरे सभी हरिद्वार जाने वाले यात्रियों को बस के जरिए हरिद्वार पहुंचाया गया. यात्रियों को हरिद्वार पहुंचाने के लिए 11 बसों का इस्तेमाल किया गया. हरिद्वार पहुंचने वाले यात्रियों में कुछ घायल भी थे, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

PM मोदी ने घटना पर दुख जताया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खतौली रेल हादसे पर दुख जताते हुए कहा कि रेल मंत्रालय स्थिति पर लगातार नजर रखे हुए है. यूपी सरकार और रेल मंत्रालय सभी जरूरी मदद मुहैया कराने में जुटे हैं. उन्होंने घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की.

हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों और घायलों के लिए सरकार ने मुआवजे की घोषणा की है. ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मारे गए लोगों के लिए 5 लाख और रेल मंत्रालय ने 3.5 लाख के मुआवजे की का ऐलान किया है. वहीं घायलों को 50 हजार रुपये का मुआवजा दिया जाएगा.
ये ट्रेन हुईं रद्द

इस हादसे के बाद खतौली ट्रैक से गुजरने वाली कई ट्रेन रद्द कर दी गई हैं. ट्रेन नंबर 14521/14522 अंबाला से दिल्ली आने वाली ये ट्रेन रद्द कर दी गई है. ट्रेन नंबर 18478हरिद्वार से पुरी जाने वाली कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस रद्द कर दी गई है. ट्रेन नंबर 14682ये ट्रेन जालंधर से नई दिल्ली आती है, जिसे रद्द कर दिया है.

इन ट्रेनों का रूट हुआ डायवर्ट

-अमृतसर से बिलासपुर जाने वाली ट्रेन संख्या 18238 अब नए रूट के तहत अंबाला-पानीपत-नई दिल्ली-हजरत निजामुद्दीन होते हुए जाएगी.

-अमृतसर से मुंबई सेंट्रल जाने वाली गोल्डन टेंपल मेल अब अंबाला होते हुए पानीपत-नई दिल्ली-हजरत निजमामुद्दीन होते हुए जाएगी.

-ट्रेन संख्या 14646 जम्मू तवी-दिल्ली शालीमार एक्सप्रेस भी अंबाला और पानीपत से होते हुए दिल्ली पहुंचेगी.

-इनके अलावा अमृतसर-इंदौर एक्सप्रेस (ट्रेन नंबर-19326), कटरा-आनंद विहार (ट्रेन नंबर-04402) इलाहाबाद-उधमपुर एक्सप्रेस (ट्रेन नंबर-24155) भी अंबाला-पानीपत से होकर गंतव्य तक पहुंचेगी.

Share With:
Rate This Article