बिहार में बाढ़ के कहर से कई जिले बेहाल, 65 लाख लोग हुए प्रभावित

भारी बारिश ने देश के कई हिस्सों में भारी नुकसान पहुंचाई है. पिछले तीन दिन में अब तक बिहार में 41 लोगों की मौत हो चुकी है. लगभग 65.37 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. इसके साथ ही इस विनाशकारी बाढ़ ने असम और बंगाल के बड़े हिस्से को अपनी चपेट में लिया है. वहां का जनजीवन अस्त-व्यस्त है. देश के बाकी हिस्सों से पूर्वोत्तर का रेल संपर्क टूट गया है. उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में बादल फटने की दो घटनाओं में छह लोगों की जान चली गई. छह सैन्यकर्मियों समेत दस लोग लापता हैं.

बिहार में लगभग 65.37 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित

बाढ़ से बिहार के 12 जिलों के लगभग 65.37 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि अररिया सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है. एक अधिकारी ने बताया कि अररिया में 20, सीतामढ़ी में 6, किशनगंज में 5, पूर्वी व पश्चिमी चंपारण और दरभंगा में तीन-तीन लोगों और मधुबनी में 1 व्यक्ति की मौत हुई है. किशनगंज, पूर्णयिा के तीन प्रखंड और कटिहार का एक प्रखंड बाढ़ की चपेट में है. इससे सड़कों को नुकसान पहुंचा है.

पूर्वोत्तर क्षेत्र की ओर आने वाली ट्रेनों को किया रद्द

इस बीच पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के मुख्य जन संपर्क अधिकारी प्रणव ज्योति शर्मा ने एक बयान में कहा कि रेलवे बोर्ड ने देश के विभिन्न हिस्सों से पूर्वोत्तर क्षेत्र की ओर आने वाली ट्रेनों को रद्द करने का फैसला किया है. इन्हें 16 अगस्त 2017 को सुबह 10 बजे तक कटिहार या मालदा टाउन पहुंचना था. साथ ही उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल, बिहार, असम और पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों में पिछले 72 घंटों में भारी बारिश के कारण रेलवे परिचालन बुरी तरह प्रभावित हुआ है. मुख्य जन संपर्क अधिकारी राजेश कुमार द्वारा ईसीआर के एक बयान में बताया गया कि 33 ट्रेनें रद्द कर दी गई है. 11 ट्रेनों की यात्रा पहले ही समाप्त कर दी गई.

पीएम मोदी ने हरसंभव मदद का दिया भरोसा

वहीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को राज्य के प्रभावित जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया. उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से बाढ़ की स्थिति पर बात की और केंद्र से हरसंभव मदद का भरोसा दिया.

असम और अरुणाचल प्रदेश में बाढ़ की स्थिति विकट

असम में बाढ़ की स्थिति काफी गंभीर हो गई है. जहां 25 जिलों के लगभग 32 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. तीन और लोगों की इसमें जान चली गई, जिससे राज्य में मरने वालों की कुल संख्या 18 तक पहुंच गई है. वहीं अरुणाचल प्रदेश में भी बाढ़ की स्थिति काफी विकट हो गयी है. कई जिलों में लगातार हो रहे भूस्खलन से सड़क यातायात बाधित हुआ है.

उत्तर प्रदेश में सीएम योगी ने किया अधिकारियों का निलंबन

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाढ़ राहत कार्यों में लापरवाही बरतने पर गोण्डा के प्रभारी जिला पूर्ति अधिकारी, पशुधन प्रसार अधिकारी और करनैलगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्साधिकारी को निलंबित करने के निर्देश दिए. मुख्यमंत्री जिले के कर्नलगंज तहसील क्षेत्र में घाघरा नदी के बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद पाल्हापुर बाढ़ राहत केन्द्र में उपस्थित लोगों को सम्बोधित किया.

लोगों को पहुंचाई राहत

मुख्यमंत्री ने कर्नलगंज तहसील क्षेत्र में बाढ़ से मरने वाले दो व्यक्तियों के परिजनों को सहायता के रूप में चार-चार लाख रुपए के चेक दिया. साथ ही बाढ़ पीड़ितों के लिए प्रशासन द्वारा वितरित किए जाने वाले खाद्यान्न व दैनिक उपयोगी वस्तुओं की किट भी वितरित कीं.

उत्तर बंगाल भी हुआ बाढ़ से प्रभावित

वहीं बारिश के चलते पश्चिम बंगाल के भी हालत खराब है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, हम देश में बाढ़ की स्थिति से चिंतित है. पहले की बाढ़ से दक्षिण बंगाल प्रभावित हुआ. अब उत्तर बंगाल प्रभावित है. राहत और बचाव अभियानों के लिए हम लगातार स्थिति की निगरानी कर रहे हैं. इसके अलावा तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक और केरल में अधिकांश जगहों पर भी बारिश हुई है.

Share With:
Rate This Article