नशीले पदार्थ की तस्करी के आरोप में बरी HRTC के RM ने किया बड़ा खुलासा

चिट्टा मामले में पकड़े गए प्रदेश पथ परिवहन निगम सोलन के तत्कालीन रीजनल मैनेजर मोहिंदर सिंह राणा को कोर्ट से क्लीन चिट मिल गई है। राणा ने खुद को बेकसूर बताते हुए पूरे मामले का ठीकरा पुलिस पर फोड़ा है।
72 दिन जेल में रहने के बाद शुक्रवार को उन्होंने प्रेस वार्ता में कहा कि वह साजिश करने वाले पुलिस अफसर के खिलाफ 50 लाख की मानहानि का दावा करेंगे।

उन्होंने कहा कि चिट्टा मामले से उनका कोई लेनादेना नहीं था। पुलिस ने उन्हें  जबरन इस मामले में फंसाया है। उनकी गाड़ी में जिस सफेद पाउडर को नशीला पदार्थ चिट्टा दर्शाया गया, वह हैदराबाद की लैब जांच में अमोनिया कारबोनेट और बायकारबोनेट (सोडा) पाया गया। राणा ने दावा किया कि पुलिस ने जो एफआईआर में दर्ज किया है, वह सब झूठ है।

उन्होंने कहा कि एफआईआर में दर्शाया गया है कि रात साढ़े बारह बजे शोघी नाके के दौरान उन्हें पकड़ा गया। लेकिन 10 बजे उनकी गाड़ी बालूगंज गुरुद्वारे के सामने खड़ी थी। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस के सीआईए विंग ने उनसे 7 लाख कैश मांगा लेकिन मैंने कहा कि किस बात का पैसा दूं।

एफआईआर के मुताबिक वह सोलन से शिमला की ओर आ रहे थे। उनकी गाड़ी में जीपीएस सिस्टम लगा हुआ था। वह सोलन से शिमला नहीं बल्कि शिमला से सोलन की ओर जा रहे थे।

उनके साथ वाहन में दो लोग और एक ड्राइवर मौजूद था। तीसरा शख्स जिसे पुलिस ने उनके साथ दर्शाया था, वह फोटोस्टेट मशीन के दाम का पता करने आए थे। शाम करीब 7 बजे वापस सोलन जा रहे थे। शोघी पहुंचने पर एक शख्स का फोन आया और उन्हें शोघी से थोड़ा आगे बुलाया।

जैसे ही वह शोघी चौकी के समीम पहुंचे। कुछ लोग वहां आ गए और उनके साथ मारपीट करने लगे और कहने लगे कि चौकी चलो। चौकी ले जाने के बाद उन्होंने उनकी

फोटो खींचनी शुरू कर दी और कहने लगे कि अब तुम फंस गए और उनके साथ मारपीट की। कुछ देर बाद पुलिस का एक अफसर वहां पहुंचा और मारपीट कर धमकाना शुरू कर दिया। उसके बाद उन्हें उनकी गाड़ी के साथ करीब साढ़े नौ बजे बालूगंज थाने ले गए।

Share With:
Rate This Article