अब लड़कियां भी कर सकेंगी सैनिक स्कूलों में पढ़ाई, सरकार कर रही है विचार

रक्षा राज्य मंत्री सुभाष रामराव भामरे ने शुक्रवार को बताया कि सरकार सैनिक स्कूलों में छात्राओं को पढ़ने की अनुमति देने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है.लोकसभा में हेमन्त तुकाराम गोडसे, राजीव सातव के प्रश्न के उत्तर में सुभाष भामरे ने कहा कि सैनिक स्कूलों में छात्राओं को पढ़ने की अनुमति देने का प्रस्ताव आया था. इस बारे में संसद की स्थायी समिति का सुझाव भी आया, उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका भी थी और अन्य वर्गो से भी इस बारे में सुझाव आए.

उन्होंने कहा कि इस बारे में सर्विस हेडक्वाटर ने कहा कि सैनिक स्कूल का मकसद एनडीए के लिये तैयार करना है और एनडीए में लड़कियों को नहीं लिया जाता है. रक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि लड़कियों को सैनिक स्कूल में पढ़ने की अनुमति देने का प्रस्ताव विचाराधीन है.

उन्होंने कहा कि देश में अभी 26 सैनिक स्कूल हैं और देश के विभिन्न क्षेत्रों में 21 अन्य सैनिक स्कूल स्थापित करने का प्रस्ताव पर विचार चल रहा है. इसमें से 9 सैनिक स्कूलों के लिये एमओयू पर हस्ताक्षर हो गया है और 3 सैनिक स्कूल के लिये सैद्धांतिक रूप में मंजूरी दे दी गई है. मंत्री ने कहा कि देश के विभिन्न क्षेत्रों में सैनिक स्कूल स्थापित करने के 64 प्रस्ताव आए थे . दार्जिलिंग में सैनिक स्कूल स्थापित करने का प्रस्ताव विचाराधीन है.

Share With:
Rate This Article