आर्टिकल 35A के विवाद पर पीएम मोदी से मिलीं CM महबूबा मुफ्ती

जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. इस दौरान महबूबा ने कहा, पीएम नरेंद्र मोदी से अनुच्छेद 35 A पर बात हुई है. पीएम ने भरोसा दिलाया है.

इस बीच खुफिया एजेंसियों को भी जानकारी मिली है कि घाटी में अलगाववादी सगंठन और सीमा पार की पाकिस्तान खुफिया एजेंसी इस आर्टिकल के बहाने एक बड़ी साजिश रचने की तैयारी में हैं.

इस अनुच्छेद को लेकर जम्मू कश्मीर की सभी राजनीतिक पार्टियां एकजुट होती दिख रही हैं. सभी दलों ने इसे एक सुर में बनाए रखने की बात कही है. नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फ़ारूक़ अब्दुल्ला तो यहां तक कह चुके हैं कि अगर 35A हटाया जाता है तो राज्य में बड़ा विद्रोह होगा. वहीं, सीएम महबूबा मुफ्ती ने पिछले महीने ही बयान दिया था कि अगर राज्य के कानूनों से छेड़छाड़ हुई तो कश्मीर में तिरंगा थामने वाला कोई नहीं होगा.

क्या है अनुच्छेद 35A
अनुच्छेद 35A के तहत संविधान की एक विशेष ताकत जम्मू-कश्मीर की विधानसभा को दी गई है. इसके तहत वह अपने आधार पर ‘स्थायी नागरिक’ की परिभाषा तय कर सकते हैं. साथ ही उन्हें चिन्हित कर विभिन्न विशेषाधिकार भी दिया जा सकता है. धारा 370 जम्मू-कश्मीर को कुछ विशेष अधिकार प्रदान करता है. 1954 के एक आदेश के बाद अनुच्छेद 35A को संविधान में जोड़ा गया था.

उमर अब्दुल्ला ने दी थी चेतावनी
नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्‍दुल्‍ला ने केंद्र सरकार को इस मामले में चेतावनी भी दी थी. उन्होंने कहा था अगर अनुच्छेद 35A को छेड़ा तो कश्मीर में वो होगा जो कभी नहीं हुआ. इस मसले पर उनकी पार्टी ने विपक्षी दलों की एक बैठक कर कहा था, राज्य के स्पेशल स्टेटस से छेड़छाड़ की स्थिति में पूरा विपक्ष एकजुट है और हम सभी एक साथ इसके खिलाफ आवाज उठाएंगे.

Share With:
Rate This Article