पनामा पेपर्स में सामने आए खातों की जांच की जा रही है: वित्त मंत्री अरुण जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को बताया है कि पनामा पेपर्स में नाम लिए खातों की जांच की जा रही है। साथ ही उन्होंने यह भी स्पष्ट किया है कि तय प्रक्रिया का पालन किया जाएगा। राज्य सभा में बैंकिंग नियमन (संशोधन) बिल के दौरान चल रही चर्चा में एक सवाल के जवाब में जेटली ने बताया, “आजतक किसी भी सरकार ने विदेशी खातों के संबंध में प्राप्त जानकारी पर कोई कदम नहीं उठाया है।”

इस बिल को राज्य सभा में पारित कर दिया गया है। यह उस अधिनियम की जगह लेगा जिसे मई महीने में लागू किया गया था, जहां आरबीआई को नॉन पर पर्फोमिंग एसेट से निपटने के लिए पूरी पावर दी गई थी। पनामा पेपर्स विदेशी लॉ फर्म मोसैक फोन्सेका के डेटाबेस के लीक से संबंधित हैं जिसने कई खुफिया विदेशी खातों का खुलासा किया था।

अरुण जेटली ने कहा, “पनामा में सामने आए हर एकाउंट की हो गई है। हमारे देश में कानून की व्यवस्था है। हमारा देश पड़ोसी मुल्क की तरह नहीं है जहां पहले हटाया जाए और फिर उसके बाद ट्रायल किया जाए। हमारे पास अरनी खुद की जांच हैं।” साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ऐसे देशों के भी संपर्क में है जहां पर ये एकाउंट हैं। जानकारी के लिए बता दें कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को पनामा पेपर्स के केस में दोषी पाए जाने के बाद पद हटाया गया था।

जेटली ने यह भी बताया कि लिकटेंस्टीन केस, एचएसबीसी केस और पनामा केस में जांच प्रक्रिया चल रही है, लेकिन सरकार इस संबंध में जानकारी सार्वजनिक नहीं कर सकती।

Share With:
Rate This Article