बैंक खाते से आधार कार्ड को जोडऩे के नाम पर हो रही ठगी

शिमला

अगर आपको फोन कॉल कर आधार कार्ड नंबर बैंक खाते से जोडऩे के बारे में पूछा जा रहा है तो थोड़ी सी लापरवाही लाखों रुपये का चूना आपको लगा सकती है। आप ऑनलाइन ठगी का शिकार हो सकते हैं। आधार कार्ड नंबर को बैंक खातों और बाकी सुविधाओं से जोडऩे की बात कह कर खाते की जानकारी ली जा रही है। हालांकि बैक अधिकारी बार-बार लोगों को जागरूक करते हैं कि बैंक खाते से संबंधित जानकारी कॉल कर नहीं मांगते हैं। फिर भी फर्जी कॉल कर कई लोगों को ठगा जा रहा है।

पहले मोबाइल फोन पर उपभोक्ताओं को मैसेज के माध्यम से आधार कार्ड नंबर से बैंक खाता जोडऩे के लिए अपील की जाती है। इसके बाद शातिर फोन कॉल करते हैं। इस दौरान कॉल करने वाला कहता है कि आपका आधार कार्ड नंबर बैंक खाते से लिंक करना है। वह व्यक्ति खुद को आरबीआइ या किसी बैंक का अधिकारी बताता है। शातिर कहता है कि आधार कार्ड को बैंक खाते से जोडऩा जरूरी है नहीं तो बैंक खाते को ब्लॉक कर दिया जाएगा। ऐसे में शातिर बैंक खाते सहित एटीएम कार्ड के पिन की जानकारी भी ले लेते हैं। इसके तुरंत बाद संबंधित व्यक्ति के खाते से शातिर पैसा निकाल लेते हैं। इसका पता पीडि़त को तब लगता है जब खाते से पैसे निकाले जाने का मैसेज आता है।

नक्सल एरिया से चल रहे गिरोह ऑनलाइन ठगी करने वाले गिरोह नक्सल प्रभावित एरिया से यह सब करते हैं। इनमें झारखंड, बिहार, उड़ीसा, छतीसगढ़ आदि के ग्रामीण क्षेत्र हैं। यहां से शातिर लोगों के आधार कार्ड नंबर जानकर कर उन्हीं केनाम पर मोबाइल सिम इस्तेमाल कर रहे हैं। पुलिस के पास शिकायतें आती हैं, लेकिन गिरोह के सदस्य अपनी सिम तुरंत बदल देते हैं।

Share With:
Rate This Article