‘जय श्री राम’ का नारा लगाने पर नीतीश के मुस्लिम मंत्री के खिलाफ फतवा, इस्‍लाम से बेदखल, निकाह भी रद

बिहार सरकार में जेडीयू कोटे से मुस्लिम मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद की ‘जय श्री राम का नारा’ लगाने के बाद मुस्किलें बढ़ गई है. इमारत शरिया के मुफ्ती सुहैल अहमद कासमी ने एक फतवा जारी करके खुर्शीद को इस्लाम से बेदखल कर दिया है.

इतना ही नहीं फतवे के आधार पर उनका निकाह भी टूट गया है. फतवे के अनुसार उन्हें अपने इस काम के लिए तौबा करके फिर से निकाह करना होगा.

अपने खिलाफ जारी फतवे पर प्रतिक्रिया जारी करते हुए खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद ने कहा, ”किस उम्मीद के साथ क्या मकसद लेकर मैंने जय श्री राम के नारे लगाए, ये खुदा बेहतर कोई नहीं जानता. रहा सवाल खुदा का तो कोई खुदा कहता है, कोई श्री राम कहता है. एक शक्ति है जो दुनिया को चला रही है.”

खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद ने कहा, ”बिहार की जनता के लिए, उसकी तरक्की, हिफाजत के लिए, देश की भलाई के लिए आपकी सौहार्द बनाए रखने के लिए अगर मुझे जय श्री राम कहना पड़ेगा तो उसके लिए कल भी पीछे नहीं हटा था आज भी पीछे नहीं हटूंगा.”

जेडीयू के विधायक और मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद विश्वास मत के दौरान विधानसभा में जय श्री राम के नारे लगाकर चर्चा में आये थे.

आपको बता दें फिरोज पश्चिमी चंपारण की सिकटा सीट से विधायक बने हैं. उन्होंने दसवीं तक की पढ़ाई की है. पिछली महागठबंधन की सरकार में गन्ना मंत्री रहे खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमत को इस बार अल्पसंख्यक और गन्ना मंत्रालय का जिम्मा सौंपा गया है.

Share With:
Rate This Article