कपूरथला: अलग-अलग राज्यों में जाकर 34 ATM लूटने वाले गिरफ्तार, पढ़ें पुलिस ने कैसे पकड़ा

सुल्तानपुर लोधी एटीएम लूटकांड को अंजाम देने वाले गैंग को कपूरथला पुलिस ने ब्रेक कर तीन लुटेरे पकड़े हैं। यह गैंग 4 साल में पंजाब में 22, हिमाचल प्रदेश में 6, यूपी में 4 और उत्तराखंड में 2 एटीएम लूट चुका है। 34 एटीएम काटकर इनके हाथ 3 करोड़ 25 लाख 68 हजार 100 रुपए लगे। पुलिस ने गिरोह के किंगपिन जालंधर रामामंडी के न्यू गणेश नगर के इंदरजीत सिंह, रामामंडी के ही जोगिंदर नगर के प्रिंस तरनतारन के अमरीक सिंह को पकड़ा है। 19 जुलाई सुल्तानपुर लोधी में लूटे थे 11 लाख…

मैट्रिक फेल किंगपिन इंदरजीत ने पूछताछ में कपूरथला पुलिस को बताया कि 2013 में उसने देखा कि एटीएम की लोहे की चादर कितनी मोटी होती है। उसके मन में एटीएम काटने का आइडिया गया। अपने ससुराल होशियारपुर के हरियाणा जाकर वह लोहे की मोटी चादर खरीदकर लाया और उसे काटने की प्रैक्टिस की। इसमें वह एक्सपर्ट हो गया। इंदरजीत कहता है कि उसे एटीएम काटने में महज पांच मिनट लगते थे। यह बात उसने प्रिंस से की। सबसे पहले 2013 में शाम चौरासी में एटीएम काटा, तब प्रिंस साथ था। एटीएम से सवा आठ लाख रुपए निकले थे। फिर बेगोवाल में एटीएम काटकर 9 लाख लूटे। प्रिंस डर गया और अपना हिस्सा लेकर चुप बैठ गया। इस बीच उसे रामामंडी में अमरीक मिला। वह भी जल्द अमीर बनना चाहता था तो उसे साथ लेकर एटीएम काटने शुरू कर दिए। 2014 में 20 एटीएम से पैसा लूटा और उससे जमीनें खरीद लीं। 2015 में सख्ती होने पर दो ही वारदातें कीं।

2016 में आठ वारदातों को अंजाम दिया। 19 जुलाई को सुल्तानपुर लोधी में वारदात की। वहां से ही पुलिस को क्लू मिले और वे पकड़े गए। उसने जालंधर के दो वरना कारें एक कार अमृतसर लूटी। एक कार पिंजौर में बेच दी थी। लूटे गए 34 एटीएम में से 22 पीएनबी के हैं। पुलिस ने इनसे 10 लाख रुपए, दो पिस्टल, 12 कारतूस, 700 नशीली गोलियां और 500 गोलियां, वरना कार और एटीएम काटने में इस्तेमाल दो सिलेंडर और अन्य सामान बरामद किया है। एक सिलेंडर इंदरजीत ने होशियारपुर से खरीदा था।

आईजी अर्पित शुक्ला और डीआईजी जसकरन सिंह ने बताया कि गिरोह ने 19 जुलाई की देर रात सुल्तानपुर लोधी में एटीएम काटकर 11 लाख 43 हजार 100 रुपये लूटे थे। एसएसपी (कपूरथला) संदीप शर्मा की सुपरविजन में गैंग को ट्रेस करने के लिए टीम बनाई थी। जांच में यह बात सामने आई कि लूटकांड को अंजाम देने वाले दो लुटेरे थे। सीसीटीवी कैमरे में वरना कार कैद हुई थी, मगर नंबर फर्जी लगा था। कपूरथला एरिया में ही यह कार पकड़ी गई। कार में इस बार उनका तीसरा साथी प्रिंस था।

Share With:
Rate This Article