बलाचौर: स्कूली छात्रा की संदिग्ध हालात में मौत, पानी में तैरता मिला शव

बलाचौर-गढ़शंकर रोड पर स्थित सैंटीनल पब्लिक स्कूल की 9वीं में पढ़ती छात्रा का शव नजदीकी गांव महितपुर बिस्त दोआब नहर से मिलने के कारण इलाके में दहशत और शोक का माहौल बन गया। बाद दोपहर करीब साढ़े 3 बजे महितपुर गांव के नजदीक रहते सद्दाम हुसैन व सोनू ने बिस्त दोआब नहर में पीरों के स्थान पर श्मशानघाट के पास एक लाश पानी में तैरती हुई देखी, जिसका सिर नजर आ रहा था।

जानकारी अनुसार दो लड़कियों ने शुक्रवार देर शाम बिस्त दोआब नहर में छलांग लगा दी । इस हादसे में गांव सुधा माजरा की मनप्रीत कौर की मौत हो गई जबकि गांव चाहलां की रूपिंदरजीत का कुछ पता नहीं चल पाया है। बताया गया है कि रूपिंदर कौर के पास से टीचर्स को मोबाइल मिला था।

मनप्रीत कौर और रूपिंदरजीत कौर दोनों स्कूल में सहेलियां थी । स्कूल में वे दोनों अकसर अलग-अलग बसों में जाती थीं मगर शुक्रवार को वह एक ही बस में घर को गईं। दोनों सहेलियां जनता स्वीट्स चौक में बस से उतरीं और फिर नहर की तरफ गई। मनप्रीत कौर का गांव रूपिंदर कौर के गांव के बाद आता है।

पुलिस यह जांच कर रही है कि शुक्रवार सुबह भी दोनों घर से स्कूल के लिए आईं और ट्यूशन के बाद घर जाने के लिए एक ही बस में क्यों गईं और मनप्रीत रास्ते में क्यों उतरी। परिवार वालों का कहना है कि जब बस में अन्य अध्यापक भी रहते हैं तो लड़कियों को उतरने क्यों दिया गया। पुलिस ने पूछताछ के लिए स्कूल अध्यापकों को भी थाने में बुलाया।

पुलिस ने बताया कि मामले की जांच जारी है और परिवार वालों के बयान के बाद कार्रवाई की जाएगी। पुलिस के लिए सबसे अहम घटना की कड़ियों को जोड़ना है। 14 साल की छोटी उम्र में आत्महत्या करना बच्चियों के लिए आसान नहीं रहा होगा। ऐसी क्या वजह थी कि उन्होंने नहर में छलांग लगा दी या फिर उन्हें किसी ने वहां फैंका। नहर से बरामद छात्रा के जूते व जुराबें भी अभी नहीं मिल पाई हैं।

इसके अलावा उनके नाक से झाग भी निकल रही थी, ऐसे में सवाल उठने लाजिमी हैं। वैसे अगर वे स्कूल से घर जाने के लिए बस में सवार हुई थीं तो रास्ते में कैसे उतर गईं, पुलिस को इस जांच में इन सवालों के जवाब ढूंढने होंगे, तभी मामले की कड़ियां जुड़ पाएंगी।

Share With:
Rate This Article