फॉर्चून ग्लोबल 500 लिस्ट में एशियाई कंपनियों का कब्जा, 7 भारतीय कंपनियां भी

फॉर्चून ग्लोबल 500 की लिस्ट में इस बार एशियाई कंपनियों का कब्जा है. एशिया ने उत्तर अमेरिका (145), यूरोप (143) को पीछे छोड़ दिया है. एशिया महाद्वीप से लिस्ट में 197 कंपनियां हैं. बाकी दुनिया की सिर्फ 15 कंपनियां ही इस लिस्ट में जगह बना पाई हैं. फॉर्चून ग्लोबल 500 पिछले साल के रेवन्यू के आधार पर कंपनियों को रैकिंग देता है.

देशों की बात करें तो अमेरिका अभी भी सबसे ज्यादा कंपनियों के साथ पहले नंबर पर है. इस लिस्ट में US की 132 कंपनियों ने जगह बनाई है. वहीं चीन 109 कंपनियों के साथ दूसरे स्थान पर है. एशियाई देश जापान 51 कंपनियों के साथ तीसरे नंबर पर है. अन्य एशियाई देशों में जापान के बाद दक्षिण कोरिया की 15 कंपनियां और भारत की 7 कंपनियां फॉर्चून ग्लोबल 500 लिस्ट में हैं.

7 भारतीय कंपनियों में से केवल एक कंपनी इंडियन ऑयल ही टॉप 200 में जगह बना पाई है. लिस्ट में अन्य 6 भारतीय कंपनियां हैं- रिलायंस इंडस्ट्रीज (203), स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (217), टाटा मोटर्स (247), राजेश एक्सपोर्ट्स (295), भारत पेट्रोलियम (360) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम (384).

वॉलमार्ट सबसे ज्यादा रेवन्यू (4,85,873 डॉलर) के साथ पहले नंबर पर है. अगले 3 स्थानों पर चीन की स्टेट ग्रिड, सिनोपेक और चाइना पेट्रोलियम कंपनियां हैं. भले ही चीनी सरकार वाली कंपनियों का फॉर्चून ग्लोबल 500 लिस्ट में दबदबा रहा है लेकिन चीन की प्राइवेट कंपनियां को भी लिस्ट में जगह बनाने में कामयाबी मिल रही है.

Share With:
Tags
Rate This Article