शहीद शशि शर्मा का उनके पैतृक गांव में राजकीय सम्मान से किया गया अंतिम संस्कार

हमीरपुर

जम्मू के नौशहरा सेक्टर में पाकिस्तानी गोलीबारी में शहीद सूबेदार शशि कुमार शर्मा का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव गलोल में किया गया. उनका पार्थिव शरीर शुक्रवार सुबह 7:30 बजे गलोल पहुंचा, जिसके बाद उनका अंतिम संस्कार पूरे विधि-विधान से किया गया. क्षेत्र के लोगों और परिजनों ने नम आंखों से शहीद को अंतिम विदाई दी.

शहीद सूबेदार शशि कुमार के पार्थिव शरीर को उनके 12 साल के बेटे अक्षय ने मुखाग्नि दी. जालंधर स्थित सेना की 9वीं कोर की एक टुकड़ी ने शशि कुमार को सलामी दी. प्रशासन की और से पहुंचे एसडीएम नादौन अमित मेहरा, तहसीलदार अनिल मनकोटिया, बीडीओ चन्द्रवीर सिंह, एसएचओ नादौन सतीश कुमार शर्मा, सहित भाजपा विधायक विजय अग्निहोत्री और कई अन्य गणमान्य लोगों ने शहीद शशि कुमार शर्मा को श्रद्धा सुमन भेंट किए.

47 वर्षीय सूबेदार शशी कुमार शर्मा 19 पंजाब रैजीमेंट में तैनात थे और 3 अगस्त को सेवानिवृत होने वाले थे. इसके लिए तीन सप्ताह पहले वह घर छुट्टी आकर रिटायरमेंट सामारोह की तैयारियों के लिए सभी रिश्तेदारों को निमंत्रण भी दे गए थे. उनके परिवार में दो बेटियां प्रियंका व आंचल, बेटे अक्षय को उनके पिता के अक्समात चले जाने का दुख है वहीं देश के लिए जान न्योछावर कर देने पर गर्व भी है. उनकी बेटियों ने भी सेना में जाकर देश की सेवा करने की इच्छा जाहिर की है.

शशि कुमार बीते 18 जुलाई को पाक गोलाबारी में राजौरी सेक्टर में ड्यूटी के दौरान घायल हो गए थे. उन्हें उपचार के लिए सेना के कमांड अस्पताल उधमपुर में भर्ती करवाया गया था जहां बुधवार सुबह उन्होंने दम तोड़ दिया.

Share With:
Rate This Article