एकम केस: पति का खून करने वाली पत्नी सीरत पर आरोप तय, जानिए कौन बने गवाह

करीब पांच महीने पुराने एकम सिंह ढिल्लों हत्याकांड की आरोपी सीरत ढिल्लों के खिलाफ आरोप तय कर दिए गए हैं। सीरत ढिल्लों के खिलाफ आरोप तय कर दिए गए हैं। उस पर हत्या करने, सबूतों को मिटाने व आर्म्स एक्ट के तहत आरोप तय किए गए हैं।  जबकि मामले में सीरत की मां जसविंदर कौर, भाई विनय प्रताप सिंह व अन्य आरोपी जगत पर भी आपराधिक साजिश रचने के आरोप हैं। 17 अगस्त से केस का ट्रायल शुरू हो जाएगा।

आपको बता दें कि, एकम सिंह ढिल्लों का शव 19 मार्च को पुलिस ने फेज-3बी1 स्थित बीएमडब्ल्यू कार की बैक सीट पर सूटकेस से बरामद किया था। इस संबंध में पुलिस को एक ऑटो चालक ने सूचित किया था। इसके बाद पुलिस ने एकम की पत्नी, उसके भाई और एकम की मां पर केस दर्ज किया था।

बच्चों से लेकर मोबाइल शॉप वाला तक बना गवाह
पुलिस ने मामले में 55 गवाह बनाए है। इनमें ऑटो चालक तुल बहादुर भी शामिल हैं। जिसने फेज-3बी1 स्थित सीरत को 19 मार्च को कार की पिछली सीट पर सूटकेस में शव रखते देखा था। वहां पर सीरत का परिवार किराये पर रह रहा था।  इसके अलावा सीरत के बच्चे, नौकरानी, गुरुद्वारा अंब साहिब के दो सेवादार भी गवाह बनाए गए हैं। उस मोबाइल शॉप के मालिक को भी गवाह बनाया गया है। हत्या के बाद जहां से सीरत ने मोबाइल फोन खरीदा था।
पुलिस अधिकारियों के मुताबिक सीरत की मां जसविंदर सिंह व भाई विनय प्रताप से पुलिस की स्पेशल टीम ने पूछताछ की थी। इसके बाद पुलिस ने उन्हें जाने दिया था। हालांकि आरोपी में उनका भी नाम था।

 

Share With:
Rate This Article