कोटखाई दुष्कर्म व हत्या मामले में एक आरोपी ने दूसरे आरोपी की हत्या की

शिमला

कोटखाई में नाबालिग लड़की की दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में उस समय नया मोड़ आ गया जब जेल में बंद एक आरोपी को साथी ने गला घोंटकर मार डाला. इससे अब यह मामला और उलझता जा रहा है. पुलिस हिरासत में आरोपी की हत्या ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं.

पुलिस के अनुसार इस मामले में गिरफ्तार छह आरोपियों को कोटखाई थाने में रखा गया है. वहां मंगलवार रात को एक आरोपी सूरज की दूसरे आरोपी राजू के साथ किसी बात को लेकर बहस हो गई. राजू ने पहले उसका सिर जमीन पर पटका और गला घोंटकर उसे मार डाला. इनमें झगड़ा क्यों हुआ, यह जांच का विषय है.

नेपाली की पुलिस लाकअप में हुई हत्या ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठा दिए हैं और जेल में कैदियों की सुरक्षा और ड्यूटी में कथित तौर पर बरती गई खामी भी उजागर की है. अब यह सब जांच का विषय है और इसके लिए पुलिस जल्द ही जांच का आदेश भी दे सकती है.

इस घटना से गुडिय़ा मामले में नया मोड़ आ गया है. सवाल उठ रहे हैं कि नेपाली मूल के आरोपी को क्यों मारा और पुलिस ने उसे बचाने में देरी क्यों हुई? क्या यह नेपाली कुछ तथ्य बताना चाहता था, जो शायद राजू नहीं चाहता था? पुलिस लाकअप में कैसे एक आरोपी की हत्या हो गई और वारदात के वक्त पुलिस कहां थी और क्या कर रही थी?

शिमला के पुलिस अधीक्षक डीडब्ल्यू नेगी ने इस वारदात की पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि तथ्य जांच में सामने आएंगे कि क्यों हत्या की गई व किसने की. इस बीच, पुलिस ने नेपाली के शव को पोस्टमार्टम के लिए आइजीएमसी शिमला भेज दिया है.

 

Share With:
Rate This Article