स्विट्जरलैंड: 1942 में लापता हुए दंपति के शव 75 साल बाद बर्फ के नीचे दबे मिले

स्विट्जरलैंड

पिछले सप्‍ताह स्विट्जरलैंड की बर्फ से ढंकी पहाड़ी से एक शख्‍स गुजर रहा था, तो उसे एक ठोकर लगी. इस शख्‍स ने नीचे देखा तो दो शव पड़े हुए थे। शवों को देखकर लग रहा था कि ये सालों से बर्फ के नीचे दबे हुए हैं. पुलिस का कहना है कि ये शव 75 साल पहले मरे एक दंपति के हैं, जो मवेशियों को चराने के लिए पड़ाडी पर गए थे.

लगभग 75 वर्ष गुजरने के बावजूद भारी बर्फ से दबे होने के कारण पुरुष और महिला का शरीर पूरी तरह सुरक्षित था. स्विस पुलिस ने कहा कि दक्षिण स्विट्जरलैंड में 8500 फीट की की ऊंचाई पर स्थित स्की रिसार्ट डायबलर्ट्स मैसिफ की पहाड़ियों में शुक्रवार को दोनों का शव अगल-बगल ही मिला. इनकी बोतल, किताब, बैकपैक और घड़ी भी वहीं से मिली.

हालांकि पुलिस ने अभी तक इस दंपति की पहचान जाहिर नहीं की है. स्विस पुलिस का कहना है, ‘अभी तक शवों का डीएनए टेस्‍ट नहीं हुआ, इसलिए इनकी पहचान करना मुश्किल है. डीएनए रिपोर्ट आने के बाद ही हम इनकी पहचान बता पाएंगे.’

स्‍थानीय मीडिया का कहना है कि ये शव घड़ी निर्माता मार्सिलिन डुमोलिन और उनकी स्कूल टीचर पत्नी फ्रांसिन के हैं, जो 1942 में लापता हो गए थे. दोनों अपने मवेशियों को चराने के लिए पहाड़ियों की ओर गए थे, लेकिन वापस नहीं लौटे. ये दंपति अपने पीछे सात बच्‍चे छोड़ गया थे.

रिसार्ट के प्रमुख बर्नार्ड चेनेन ने कहा कि दंपति द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान के कपड़े पहने हुए थे और उनका हर सामान पूरी तरह महफूज मिला. माना जा रहा है कि खाई में गिरने का कारण दोनों की मौत हो गई. उनकी बेटी मेसिन ने कहा कि 15 अगस्त 1942 से लापता उनके माता-पिता के शव के डीएनए परीक्षण की जरूरत नहीं है.

 

Share With:
Rate This Article