370 रुपए की चोरी, 29 साल चला मुकदमा और 2 लोगों को 5-5 साल की जेल

उत्तर प्रदेश में बरेली की एक अदालत को 1988 में 370 रुपए की चोरी के मामले में 29 साल बाद फैसला सुनाते हुए दो लोगों को पांच साल की सजा सुनाई है. आरोपियों ने 29 साल पहले ट्रेन में एक शख्स को नशीला पदार्थ खिला कर उससे 370 रुपए चोरी कर लिए थे. एडिशनल डिस्ट्रिक्ट और सेशन जज ने दोनों आरोपियों पर 10-10 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है.  इस मामले में तीसरे आरोपी की मौत 2004 में हो गई थी.

एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक, ’21 अक्टूबर, 1988 में चंद्र पाल, कन्हैया लाल और सर्वेश ने ट्रेन में सफर कर रहे वाजिद हुसैन को चाय की पेशकश की. चाय में नशीला पदार्थ मिलाया गया था. हुसैन शहाजहानपुर से पंजाब नौकरी के लिए जा रहा था. तीनों हुसैन के 370 रुपए लेकर फरार हो गए.’

एशिडनल डिस्ट्रिक्ट सरकारी वकील सुरेश बाबू ने कहा, ‘तीनों के खिलाफ आईपीसी की धारा – 379, 328, और 411 के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी. 2004 में चंद्रपाल की मौत हो गई. इसके बाद केस को एडिशनल डिस्ट्रिक्ट और सेशन जज को ट्रांसफर कर दिया गया.’ पाल 16 साल तक फरार रहा.

हुसैन की उम्र अब 59 साल है. वह आखिरी बार आया 2012 कोर्ट आया था. वहीं दोनों आरोपियों लाल और सर्वेश को अपनी इस गलती का पछतावा है. दोनों 60 की उम्र पार कर चुके हैं. दोनों यूपी के हरदोई के रहने वाले हैं और दोनों के बेटे और बेटियां भी अब बड़े हो चुके हैं. उनका कहना है उनके लिए असली सजा मुकदमा था यह दो साल की जेल नहीं जो उन्हें मिली है.

 

Share With:
Rate This Article