महागठबंधन पर दरार की खबरों के बीच तेजस्वी से नीतीश ने की बंद कमरे में मुलाकात

दिल्ली

बिहार में महागठबंधन के बीच चल रहे सियासी घमासान के बीच मंगलवार शाम कैबिनेट मीटिंग हुई. खबर है कि मीटिंग में तेजस्वी ने अपना पूरा पक्ष रखा. ये बैठक करीब 45 मिनट तक चली.

हालांकि, बैठक में क्या निर्णय लिया गया, इसकी अभी कोई जानकारी सार्वजनिक नहीं की गई है. मगर नीतीश के साथ मीटिंग के बाद तेजस्वी यादव अपने घर लौट गए हैं.

इससे पहले एक बार जेडीयू आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव को हठधर्मी छोड़ते हुए गठबंधन धर्म का पालन करने की नसीहत दे चुकी है. वहीं दूसरी आरजेडी भी अपने रुख पर कायम है.

आरजेडी की दलील है कि जब केंद्रीय मंत्री उमा भारती का नाम बाबरी मस्जिद विध्वंस की साजिश में आता है और उनके खिलाफ केस चलाने की इजाजत दी जाती है तो उनसे इस्तीफा क्यों नहीं मांगा जाता. आरजेडी का मानना है कि तेजस्वी यादव पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप इतने गंभीर नहीं हैं कि पद से इस्तीफा दिया जाए.

ऐसे में सुशासन बाबू की छवि को बरकरार रखने के लिए एक तरफ जहां नीतीश कुमार पर तेजस्वी को कैबिनेट से बर्खास्त करने का दबाव है, वहीं गठबंधन जारी रखते सरकार बचाना भी उनके लिए बड़ी चुनौती है. यही वजह है कि जेडीयू इस बात पर जोर दे रही है कि आरजेडी खुद ही तेजस्वी यादव का इस्तीफा ले.

Share With:
Rate This Article