रोजर फेडरर ने जीता 19वां ग्रैंड स्लैम, 8वीं बार बने विम्बलडन चैम्पियन

स्विट्जरलैंड के दिग्गज टेनिस स्टार रोजर फेडरर ने रविवार (16 जुलाई) को क्रोएशिया के मारिन सिलिक को आसानी से हराते हुए साल के तीसरे ग्रैंड स्लैम-विंबलडन का पुरुष एकल खिताब जीत लिया. ऑल इंग्लैंड क्लब में फेडरर की यह रिकॉर्ड आठवीं खिताबी जीत है.

 इसके साथ ही फेडरर ने ओपन एरा में पीट सैंप्रास और ओवरऑल ब्रिटेन के महान खिलाड़ी विलियम रेनशॉ के रिकॉर्ड को ध्वस्त किया. सैंप्रास और रेनशॉ के नाम सात-सात बार विंबलडन जीतने का रिकॉर्ड है.अपने दूसरे ग्रैंड स्लैम और पहले विंबलडन खिताब के लिए प्रयासरत सिलिक की फेडरर के सामने एक नहीं चली. अपने करियर का 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब अपने नाम करने की दिशा में फेडरर ने 2014 में जापान के केई निशिकोरी को हराकर अमेरिकी ओपन जीत चुके सिलिक को 6-3, 6-1, 6-4 से हराया.
 यह फेडरर का 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब है और सर्वाधिक ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने के मामले में वह स्पेन के राफेल नडाल (15 खिताब) से चार खिताब आगे निकल आए हैं. फेडरर ने ओपन एरा में सर्वाधिक आयु में विंबलडन खिताब जीतने का रिकॉर्ड भी कायम किया. उन्होंने 35 साल 342 दिन की आयु में यह खिताब जीता है. फेडरर ने आर्थर ऐश के रिकॉर्ड को तोड़ा जो 1976 में खिताबी जीत के दौरान लगभग 32 साल के थे.

इस जीत के साथ ही फेडरर ने बताया कि विंबलडन में उनके लिए सबसे यादगार लम्हा कौन सा रहा है. विंबलडन के सबसे यादगार पल को याद करते हुए फेडरर कहते हैं कि 2003 में जीता पहला विंबलडन कप उनके लिए सबसे यादगार रहा है.

बता दें कि 2003 में स्विट्जरलैंड के सुपरस्टार रोजर फेडर ने ऑस्ट्रेलिया के मार्क फिलिपिओसिस को हराकर पहला विंबलडन खिताब अपने नाम किया था. जैसे ही फेडरर ने अपने जीवन का पहला विंबलडन जीता वो रोने लगे. वैसे ये पहला मौका था जब वे जीत कर रोए थे. वरना बचपन में फेडरर हारने के बाद हमेशा रोते थे.

Share With:
Rate This Article