CPEC को लेकर डरा चीन, पाक सेना को दी ये नसीहत

पनामागेट मामले और पाकिस्‍तान की राजनीतिक प्रणाली पर पड़ने वाले इसके असर को लेकर वहां की सेना में खलबली मच गई है. पाक सेना के कई शीर्ष अधिकारी इसको लेकर चीन का दौरा कर रहे हैं, जिसे अपना प्रोजेक्‍ट सीपीइसी (चीन-पाकिस्‍तान इकोनॉमिक कॉरिडोर) खतरे में नजर आ रहा है.

दरअसल, पनामागेट मामले में पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनका पूरा परिवार फंसा हुआ है. हजारों करोड़ों के भष्‍ट्राचार के इस मामले में ज्‍वाइंट इंवेस्‍टीगेटिव टीम (जेआइटी) ने हाल ही में सुप्रीम कोर्ट में अपनी फाइनल रिपोर्ट सौंपी है. पनामागेट मामले में शरीफ की सत्‍ता भी छिन सकती है.

 ऐसे माहौल में चीन सीपीइसी को लेकर घबराया हुआ है. जबकि अक्‍टूबर 2016 से पाक सेना के वरिष्‍ठ अधिकारी चीनी नेतृत्‍व को इस बात का आश्‍वासन देते आ रहे हैं कि पनामागेट मामले का सीपीइसी पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

वहीं चीन ने अपनी तरफ से दृढ़तापूर्वक पाक सेना से कह दिया है कि जेआइटी को किसी भी परिस्थिति में सीपीइसी को विफल करने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए. पाक सेना प्रमुख कमर जावेद बाज्‍वा ने मार्च में बीजिंग की यात्रा की थी और वहां के राजनीतिक व सैन्‍य नेतृत्‍व के सामने सीपीइसी की सुरक्षा को लेकर पाकिस्‍तान की प्रतिबद्धता दोहराई थी.

Share With:
Rate This Article