कोटखाई गैंगरेप केस: बढ़ते जनाक्रोश के बाद सीएम ने की CBI जांच की सिफारिश

शिमला

कोटखाई में सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले में अब लोगों का गुस्सा बेकाबू हो गया है. शुक्रवार को कोटखाई और ठियोग सहित आसपास के कई इलाकों के लोगों ने इस मामले पर रोष जताते हुए उग्र प्रदर्शन किया.

वहीं, ठियोग में हालात पर काबू पाने लिए पहुंचे एसपी शिमला सहित अन्य पुलिस कर्मियों के साथ धक्का मुक्की शुरू हो गई है, जबकि हालात बेकाबू होता देख मौके पर बुलाई गई क्यूक रिएक्शन फोर्स को भी लोगों ने आगे नहीं आने दिया.

इस दौरान लोगों ने पुलिस की एक गाड़ी और एसपी की गाड़ी को भी तोड़ डाला. लोग इस घटना की पुलिस जांच पर रोष जता रहे थे तथा घटना की सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे. करीब तीन घंटे के प्रदर्शन के बाद सरकार ने इस दुष्‍कर्म व हत्‍या के मामले की सीबीआई जांच के आदेश जारी कर दि‍ए हैं. कुल्‍लू दौरे पर गए मुख्‍यमंत्री वीरभद्र सिंह ने इसकी जानकारी दी.

वहीं, इस मामले को लेकर ठियोग बस अड्डे के समीप सुबह से हजारों लोग जमा हो गए थे. इन लोगों ने यहां धरना देकर पुलिस के खिलाफ जमकर गुस्सा निकाला. लोगों का आरोप है कि पुलिस इस मामले में लीपापोती कर रही है.

लोगों का आरोप है कि इस मामले में कुछ मजदूरों को पकड़कर मामले को दबाया जा रहा है. उल्लेखनीय है कि चार जुलाई को कोटखाई की रहने वाली गुड़िया (बदला हुआ नाम) स्कूल से वापस आते समय लापता हो गई थी. 6 जुलाई को उसका शव जंगल में मिला था. इस मामले में गुड़िया से पहले सामूहिक दुष्कर्म और निर्मम हत्या की पुष्टि हुई थी. इसके बाद से मामले को लेकर लोगों में गुस्सा है.

Share With:
Rate This Article