खाने-पीने की चीजें सस्ती होने से थोक महंगाई दर में रिकॉर्ड गिरावट

दिल्ली

खुदरा महंगाई दर मौजूदा साल के सबसे निचले स्तर पर आ गयी है. जून के महीने में ये दर 1.54 रही, जबकि मई में ये 2.18 फीसदी थी. अब मानसून सामान्य होने की वजह से इसमें और गिरावट के आसार है.

सरकार और रिजर्व बैंक के बीच हुए समझौते के मुताबिक, खुदरा महंगाई दर 2 से 6 फीसदी के बीच रखने का लक्ष्य है. ये सरकार-आरबीआई के बीच हुए समझौते के बाद पहली बार हुआ है. अभी चूंकि ये दर 2 फीसदी से भी नीचे आ गयी है, इसीलिए नीतिगत ब्याज दर घटाने को लेकर दवाब बढ़ेगा. मौद्रिक नीति समिति की अगली बैठक 1-2 अगस्त को होने वाली है. उम्मीद है कि उस बैठक में नीतिगत ब्याज दर घटाने का रास्ता बनेगा.

सांख्यिकी मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, खाने-पीने के सामान की खुदरा महंगाई दर (-)2.12 फीसदी रही, जबकि मई में (-)1.03 फीसदी थी. वैसे सरकारी आंकड़ों में खाने-पीने के सामान की खुदरा महंगाई दर में कमी ऐसे समय में देखी जा रही है जब बाजार में कुछ सब्जियों जैसे टमाटर के भाव अचानक से बढ़ गए हैं. फिलहाल, सरकारी आंकड़ों में बताया जा रहा है कि जून के महीने में सब्जियों की खुदरा महंगाई दर (-)16.53 फीसदी रही.

वैसे खुदरा महंगाई दर में कमी ने रिजर्व बैंक गवर्नर की अगुवाई वाली मौद्रिक नीति समिति पर नीतिगत ब्याज दर यानी रेपो रेट में कमी करने का दबाव बढ़ा दिया है. अक्टूबर के बाद से समिति ने अभी तक तमाम उम्मीदों के विपरीत नीतिगत ब्याज दर (वो दर जिस पर रिजर्व बैंक बहुत ही थोड़े समय के लिए बैंकों को कर्ज मुहैया कराता है) में कमी नहीं की. इसे लेकर रिजर्व बैंक और सरकार के बीच तनानती भी देखने को मिली.

फिलहाल, ताजा दर के बाद मुख्य आर्थिक सलाहकार अऱविंद सुब्रमण्यिन की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, दर का ये स्तर ऐतिहासिक है. साथ ही ये इस बात को दर्शाता है कि अर्थव्यवस्था में स्थिरता बनी हुई है. इस तरह की खुदरा महंगाई दर की स्थिति 1999 में देखने को मिली थी और और उसके पहले अगस्त 1978 में.

वैसे गौर करने की बात ये है कि दोनों ही समय खुदरा महंगाई दर का स्वरुप, मौजूदा दर के स्वरुप से कुछ अलग था. बयान में रिजर्व बैंक का सीधा-सीधा नाम तो नहीं लिया गया है, लेकिन इशारों-इशारों में जरुर कहा गया है कि इन आंकड़ों का तमाम नीति निर्माता संज्ञान लेंगे.

Share With:
Rate This Article