पंजाब में 60 विधायक पहली बार डालेंगे राष्ट्रपति चुनाव में वोट

पंजाब में इस बार राष्‍ट्रप‍ति चुनाव में 60 विधायक पहली बार अपने वोट डालेंगे. यह दूसरा मौका होगा जब अाधे से ज्यादा विधायक पहली बार राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोट डालेंगे. वर्तमान में 117 सदस्यों वाली विधानसभा में 60 ऐसे विधायक हैं जो पहली बार जीत कर आए हैं. इनमें सबसे अधिक संख्या कांग्रेस विधायकों की है. नए विधायकों की बड़ी तादाद के मद्देनजर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उन्हें डिनर देने का फैसला किया है.

राष्ट्रपति पद के लिए 17 जुलाई को मतदान होना है. कैप्टन अमरिंदर ने कांग्रेस के सभी विधायकों को 16 जुलाई को डिनर के लिए आमंत्रित किया है। पंजाब भवन में होने वाले इस डिनर से पहले मुख्यमंत्री बाकायदा सभी विधायकों को बताएंगे कि वे कैसे मतदान करें और किन बातों का ध्यान रखें.

9 जुलाई को राष्ट्रपति पद की विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार के साथ रखे गए डिनर में कैप्टन अमरिंदर सिंह नहीं पहुंच पाए थे, इसलिए मुख्यमंत्री ने सभी विधायकों को डिनर देने का फैसला किया है.

पार्टी का मकसद यह भी है कि रविवार को ही सारे विधायक व मंत्री चंडीगढ़ पहुंच जाएं ताकि सोमवार को सभी विधायक एक साथ अपना मतदान कर सकें. कांग्रेस यह भी समझ रही है कि पार्टी के 35 विधायक ऐसे हैं जो पहली बार विधानसभा पहुंचे हैं, इसलिए उन्हें मतदान की बारीकियों से भी अवगत करवाना जरूरी है.

पंजाब में 15 साल बाद ऐसा मौका आया है जब आधे से ज्यादा सदस्य पहली बार राष्ट्रपति पद के लिए होने वाले चुनाव में मतदान करेंगे. 1992 में 117 में से 87 विधायक नए थे, जबकि इस बार 60 विधायक नए हैं जिनमें से 35 कांग्रेस के और 19 आम आदमी पार्टी के हैं. भाजपा के एक तो अकाली दल के पांच विधायक पहली बार चुने गए हैं. मुख्यमंत्री द्वारा रखे गए डिनर में पार्टी के प्रदेश प्रधान सुनील जाखड़ को भी विशेष रूप से बुलाया गया है.

 

Share With:
Rate This Article